Home » इंटरनेशनल » PM Modi and China president Xi Jinping are ready to make relation healthy in centre of China Wuhan city
 

माओत्से तुंग के ऐतिहासिक विला के पास इस्ट लेक में मोदी और जिनपिंग करेंगे नौकाविहार

न्यूज एजेंसी | Updated on: 27 April 2018, 11:55 IST

शुक्रवार को मध्य चीनी शहर वुहान में पीएम मोदी और चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के बीच होने वाली दो दिवसीय अनौपचारिक बैठक के बाद अपने तनावपूर्ण संबंध को फिर से ठीक करने के लिए तैयार हैं. एशिया के दोनों बड़े देश 1962 में युद्ध के मैदान में एक-दूसरे से टकरा चुके हैं और दोनों देशों के बीच आपसी असहमति का रिश्ता रहा है.

वर्ष 2017 में डोकलाम विवाद ने दोनों देशों के संबंधों को फिर से एक बार निचले स्तर पर पहुंचा दिया था. हालांकि इस बार मोदी और शी के बीच चीन के हृदय (वुहान) में 'अपने तरह की एक अलग बैठक' यह बताने के लिए काफी है कि दोनों देश अपने तनावपूर्ण संबंधों में नयापन लाने के इच्छुक हैं.

ये भी पढ़ें-पाकिस्तान: नवाज शरीफ के बाद इस्लामाबाद हाईकोर्ट ने ख्वाजा आसिफ को किया अयोग्य करार

शी-मोदी की बैठक पहले की तुलना में अलग होगी, क्योंकि इस बार बातचीत की कोरियोग्राफी नहीं की जाएगी और वहां केवल मंडारिन बोलने वाला एक भारतीय दुभाषिया मौजूद रहेगा. एक अधिकारी ने कहा, "यह विचार शियामेन सम्मेलन के दौरान उत्पन्न हुआ था." चीनी और भारतीय अधिकारियों ने कहा, "इन दो दिनों के दौरान दोनों नेता एक या दो बार नहीं, बल्कि 'कई' बार मुलाकात करेंगे और दिल-से-दिल की बात करेंगे."

सूत्रों के मुताबिक, "मोदी और शी वुहान में माओत्से तुंग के ऐतिहासिक विला के नजदीक इस्ट लेक के पास समय गुजार सकते हैं या नौका विहार कर सकते हैं." बैठक के लिए हालांकि कोई औपचारिक एजेंडा नहीं है और दोनों नेता बातचीत के दौरान विवादस्पद मुद्दों जैसे सीमा विवाद संबंधी संयुक्त बयान भी जारी नहीं करेंगे.

ये भी पढ़ें-ISIS के जुर्म की दास्तां, नवजात के साथ करते हैं ऐसा..

चीनी सरकार के एक अधिकारी ने कहा, "आप इससे अंदाजा लगा सकते हैं कि शी भारत को किस तरह का महत्व दे रहे हैं, यह पहली बार है कि वह किसी विदेशी नेता के साथ इस तरह की बैठक कर रहे हैं. वे लोग सभी लंबित मुद्दों पर बातचीत करेंगे."

First published: 27 April 2018, 11:55 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी