Home » इंटरनेशनल » PM Modi at ASEAN: Terrorism is a common security threat
 

आसियान में बोले पीएम मोदी- आतंकवाद समाज की सुरक्षा के लिए सबसे बड़ा खतरा

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 February 2017, 5:47 IST
(कैच न्यूज)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लाओस में 14वें  आसियान-इंडिया शिखर सम्मेलन को संबोधित करते हुए आतंकवाद पर गहरी चिंता जताई है. प्रधानमंत्री मोदी ने पाकिस्तान की ओर इशारा करते हुए हुए गुरुवार को कहा कि आतंकवाद का निर्यात, कट्टरपंथ में इजाफा और बढ़ती हिंसा हमारे समाज के लिए एक बड़ा खतरा है.

उन्होंने आतंकवाद के खतरे से निपटने के लिए आसियान के सदस्य देशों को साथ आने की अपील की. साथ ही पीएम ने कहा कि ये खतरा स्थानीय, क्षेत्रीय और एक समय में परिवर्तनशील है. आसियान के साथ हमारी भागीदारी में समन्वय और कई स्तरों पर सहयोग के माध्यम से पूरी होनी चाहिए.

साइबर सुरक्षा भी अहम

उन्होंने कहा कि बढती पारंपरिक एवं गैर पारंपरिक चुनौतियों के मद्देनजर संबंधों में राजनीतिक सहयोग बेहद महत्वपूर्ण हो गया है. पीएम मोदी ने कहा कि हम आतंकवाद के साथ-साथ कट्टरता और साइबर सुरक्षा के लिए ठोस कदम उठाना चाहते हैं. 

पीएम मोदी ने जी20 सम्मेलन के दौरान पाकिस्तान पर तीखा हमला बोलते हुए कहा कि दक्षिण एशिया में ‘एक देश’ ऐसा है, जो ‘आतंक के कारकों’ का प्रसार कर रहा है. मोदी ने कहा कि आतंकवाद के प्रायोजकों पर प्रतिबंध लगाए जाने चाहिए और उन्हें अलग-थलग कर देना चाहिए, न कि पुरस्कार दिया जाना चाहिए.

उन्होंने अपने संबोधन में कहा कि आसियान  भारत की ऐक्ट ईस्ट पॉलिसी का केंद्र है और हमारा संबंध क्षेत्र में सौहार्द का स्रोत है. आसियान इंडिया प्लान ऑफ ऐक्शन (2016-20) के तहत 54 एक्टिवेटिड को लागू किया जा चुका है.

'आर्थिक आशावाद का जुड़ाव'

समुद्री मार्गों को 'वैश्विक व्यापार की जीवन रेखाएं' बताते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि समुद्रों की सुरक्षा एक साझा जिम्मेदारी है. उन्होंने कहा कि भारत संयुक्त राष्ट्र के समुद्र कानून पर आधारित समझौते (यूएनसीएलओएस) के अनुरूप नौवहन की स्वतंत्रता का समर्थन करता है.

पीएम मोदी ने 'आपसी जुड़ाव की प्रकृति, दिशा और प्राथमिकताओं' पर अपने-अपने विचार साझा करने के लिए सदस्य देशों का शुक्रिया अदा किया. उन्होंने कहा, "हमारी साझेदारी के तीन स्तंभ हैं सुरक्षा, अर्थव्यवस्था और समाज-संस्कृति, तीनों ही क्षेत्रों में अच्छी प्रगति हुई है. भारत और आसियान का जुड़ाव 'आर्थिक आशावाद' का जुड़ाव है."

First published: 8 September 2016, 4:56 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी