Home » इंटरनेशनल » Pm Modi Vital Role and america president donald trump agree with china president xi jinping import duty trade war g20 summit
 

G20: अमेरिका-चीन ख़त्म करेंगे व्यापर युद्ध, पीएम मोदी की पहल के बाद दूर हुआ विश्व का ये बड़ा संकट

कैच ब्यूरो | Updated on: 2 December 2018, 13:10 IST

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और चीन के उनके समकक्ष शी जिनपिंग के बीच बैठक सफल रही है. दोनों सुपर पॉवर नेता इस बात पर सहमत हो गए कि जनवरी 2019 से दोनों देश एक-दूसरे पर नए आयात शुल्क (इम्पोर्ट ड्यूटी) नहीं लगाए जाएंगे. अर्जेंटीना स्थित ब्यूनर्स आयर्स में हुई इस बैठक से जब अच्छी खबर आई तो दुनिया के ज्यादातर देशों ने राहत की सांस ली.

अब जल्द ही मौजूदा ट्रेड वॉर खत्म होने की संभावना है. ट्रंप और जिनपिंग ने मौजूदा व्यापार युद्ध को खत्म करने के लिए लगातार संवाद करने की भी प्रतिबद्धता जताई है. अमेरिकी अखबार वॉशिंगटन पोस्ट के अनुसार G-20 सम्मेलन से अलग ट्रंप और जिनपिंग के बीच रात्रिभोज के दौरान लगभग ढाई घंटे तक बैठक चली.

नया आयात शुल्क नहीं लगेगा

गौरतलब है कि जनवरी 2019 से अमेरिका ने चीन पर 90 दिनों के लिए 200 अरब डॉलर के सामान पर 10 से 25 फीसदी नए आयात शुल्क लगाने का ऐलान किया था, लेकिन अपने अड़ियल रुख में नरमी दिखते हुए ट्रंप ने इसे रोक दिया. ट्रंप ने कहा कि "दोनों नेता और उनके सलाहकार व्यापार सहित कई महत्वपूर्ण मुद्दों पर चर्चा करेंगे और मुझे लगता है कि हम ऐसा समाधान निकालेंगे जो चीन और अमेरिका दोनों के लिए फायदेमंद होगा.'

विश्व का होगा विकास... आर्थिक मंदी नहीं देगी दस्तक

चीन के सुप्रीमो शी जिनपिंग ने भी सकरात्मत्क रुख अपनाते हुए वैश्विक शांति और समृद्धि के लिए नेताओं के साथ निजी दोस्ती का उल्लेख किया. दोनों महाशक्तियों के बीच सुलह से पूरी दुनिया को फायदा मिलेगा. जब कुछ महीने पहले दोनों देशों के बीच ट्रेड-वॉर (व्यापर युद्ध) अमेरिका ने चीन के 250 अरब डॉलर के सामान पर आयात शुल्क लगा दिया था, जिसके जबाब में चीन ने भी अमेरिका के 60 अरब डॉलर के सामन पर आयात शुल्क लगाया था.

ऐसा होते ही विश्व में आशंकाओं का दौर चल पड़ा, ज्यादातर देशों की अर्थव्यवस्था डगमगाने लगी और विश्व के विकास का पहिया थम सा गया. ट्रेड-वॉर अमेरिका और चीन के बीच शुरू हुआ लेकिन ज्यादातर देश इसलिए इसकी चपेट आए क्योंकि ज्यादातर देशों की अर्थव्यवस्था अमेरिका और चीन पर पर हद तक निर्भर है या प्रभावित करता है.

विश्व को आर्थिक संकट से उबारने में मोदी की भूमिका

रिपोर्ट्स के अनुसार ट्रंप और जिनपिंग को सुलह की रह पर लानें में पीएम मोदी ने अहम भूमिका निभाई है. ख़बरों की मानें तो मोदी ने अपने व्यक्तिगत रिश्ते का इस्तेमाल किया क्योंकि ट्रंप और जिनपिंग दोनों से मोदी के काफी मधुर रिश्ते हैं. व्यक्तिगत तौर पर मोदी ने ट्रंप को जिनपिंग से मतभेद दूर करने का अनुरोध किया और पूरे विश्व के भलाई का हवाला देकर चीन के प्रति नरमी बरतने की सलाह भी दी.

मोदी ने पहले भी कई बार ट्रंप से अपनी बात मनवाई है; रूस से हथियार डील में अमेरिकी विरोध के वावजूद भारत ने ये रक्षा सौदा सफलतापूर्वक किया और ईरान से तेल आयात पर प्रतिबंध से मिली छूट जैसे कई उदाहरण मौजूद हैं. वैश्विक मंच G-20 पर भी मोदी ने देश का दम दिखाया और 2022 में होने वाले अगले G -20 सम्मलेन की मेजबानी भारत को देने पर इटली राजी हो गया.

First published: 2 December 2018, 13:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी