Home » इंटरनेशनल » PML-N clinches 31 seats in POK Legislative Assembly Elections
 

पीओके में भारी बहुमत से जीती शरीफ की पार्टी, जानिए 10 खास बातें

कैच ब्यूरो | Updated on: 22 July 2016, 19:15 IST

पाकिस्तान प्रशासित कश्मीर (पीओके) में हुए चुनाव में पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएल-एन) को दो-तिहाई बहुमत मिला है. 41 विधानसभा सीटों पर चुनाव में पीएमएल-एन को 31 सीटों पर जीत मिली है.

पीओके में पिछली बार सत्ता में काबिज हुई पाकिस्तान पीपल्स पार्टी (पीपीपी) के हिस्से में सिर्फ दो सीटें आईं. इमरान खान की पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) पार्टी को भी दो सीटें मिलीं. वहीं मुस्लिम कॉन्फ्रेंस सिर्फ तीन सीटें जीतने में सफल रही.

पीओके चुनाव से जुड़ी दस खास बातें:

  1. गुरुवार को हुए विधानसभा चुनाव में कुल 26 राजनीतिक दलों के 423 उम्मीदवारों ने हिस्सा लिया था. कुल 26.74 लाख लोगों ने मताधिकार का इस्तेमाल किया.
  2. 24 अक्टूबर, 1947 को जम्मू-कश्मीर के कुछ हिस्से को पाकिस्तान में मिलाए जाने के बाद यहां अधिकतर राष्ट्रपति शासन रहा है. पीओके में साल 1975 में सरकार के संसदीय स्वरुप को लाए जाने के बाद से यह अब तक की नौंवीं विधानसभा होगी.
  3. 41 में से 12 सीटों के सदस्यों का चुनाव देश के विभिन्न हिस्सों में रहने वाले 4,38,884 मतदाता करते हैं. 12 सीटें जम्मू एवं कश्मीर से पाकिस्तान आए लोगों के लिए आरक्षित हैं. यह सीटें सिंध, गुजरांवाला, रावलपिंडी, मुल्तान और लाहौर जैसे बड़े शहरों है.
  4. पहली बार यहां चुनाव सेना की देख-रेख में हुए हैं. इससे पहले 2011 में हुए चुनाव इस क्षेत्र की पुलिस की निगरानी में करवाए गए थे.
  5. पीओके में चुनाव विधानसभा सीटों के होते हैं लेकिन सरकार के मुखिया को प्रधानमंत्री कहा जाता है.  पीओके की राजधानी मुजफ्फराबाद है.
  6. पीओके चुनाव में आमतौर पर वही पार्टी जीतती है जिसे पाकिस्तानी सरकार से समर्थन प्राप्त हो. देश में सैन्य शासन के समय यहां मुस्लिम कॉन्फ्रेंस का दबदबा रहता है
  7. गिलगित-बाल्टिस्तान को भी भारत पीओके का हिस्सा मानता है. पिछले महीने यहां भी विधानसभा के 24 सीटों पर चुनाव हुए हैं. इस क्षेत्र को पहले पाकिस्तान में नॉर्दन एरिया कहा जाता था और इसका प्रशासन संघीय सरकार के तहत एक मंत्रालय चलाता था. 2009 में यहां एक स्वायत्त प्रांतीय व्यवस्था कायम कर दी जिसके तहत मुख्यमंत्री सरकार चलाता है.
  8.  राजनीतिक विश्लेषकों के अनुसार पीओके और गिलगित-बल्टिस्तान विधानसभा को संघीय सरकार की तुलना में बेहद सीमित शक्तियां प्राप्त हैं.
  9. पाकिस्तान प्रशासित कश्मीर को पाकिस्तान में आजाद जम्मू-कश्मीर (एजेके) कहा जाता है. पीओके सरकार ने 2016-17 के लिए यहां के लिए 7300 करोड़ रुपये का बजट रखा है.
  10. पीएमएल-एन पहली बार पीओके में सरकार बनाने जा रही है. पिछले चुनाव में उसने 10 सीटें जीतकर अच्छा प्रदर्शन किया था.

First published: 22 July 2016, 19:15 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी