Home » इंटरनेशनल » President of Tibetan govt in exile visits White House for first time in six decades
 

60 साल में पहली बार इस देश के राष्ट्रपति को मिला व्हाइट हाउस में प्रवेश, चीन और अमेरिका में बढ़ सकता है तनाव

कैच ब्यूरो | Updated on: 21 November 2020, 16:14 IST

केंद्रीय तिब्बती प्रशासन (तिब्बती सरकार के नाम से मशहूर) के निर्वासति अध्यक्ष (राष्ट्रपति) डॉ लोबसांग सांगे ने बीते 60 साल में पहली बार अमेरिका के व्हाइट हाउस में प्रवेश किया. माना जा रहा है कि अमेरिकी सरकार के इस कदम के बाद से अमेरिका और चीन के बीच जारी तनाव और बढ़ सकता है. डॉ लोबसांग सांगे को व्हाइट हाउस में बुलाने के बाद चीन ने अमेरिका पर आरोप लगाते हुए कहा है कि वह क्षेत्र में अस्थिरता लाना चाहता है.

इस मुलाकात के बाद से केंद्रीय तिब्बती प्रशासन की तरफ से एक प्रेस विज्ञप्ति जारी किया गया, जिसके अनुसार, डॉ लोबसांग सांगे को व्हाइट हाउस में शुक्रवार को तिब्बती मुद्दों के लिए नियुक्त विशेष अमेरिकी समन्वयक रॉबर्ट डेस्ट्रो से मिलने के लिए आमंत्रित किया गया था.


 

वहीं इस मुलाकात से पहले अमेरिका ने चीन को एक और बड़ा झटका दिया था. अमेरिका ने पहली बार माना था कि तिब्बत, चीन का एक सैन्य कब्जे वाला क्षेत्र है. इससे पहले अमेरिका ने एक विधेयक पास किया था जिसमें अमेरिकी प्रतिनिधि सभा ने तिब्बतियों के लिए वास्तविक स्वायत्तता की वकालत की है. अमेरिका विदेश मंत्रालय की रिपोर्ट 'द एलीमेंट्स ऑफ द चाइना चैलेंज' के बाद यह विधेयक पास किया गया था.

US President Election 2020: बाइडेन ने बनाया अमेरिकी इतिहास में सबसे ज्यादा वोट पाने का नया रिकॉर्ड

First published: 21 November 2020, 15:59 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी