Home » इंटरनेशनल » pritam singh jauhal pass away in canada
 

कनाडा: पगड़ी के लिए संघर्ष करने वाले प्रीतम सिंह जौहल का निधन

कैच ब्यूरो | Updated on: 30 June 2016, 10:37 IST
(एजेंसी)

रॉयल कनाडाई सेना में सिखों के पगड़ी पहनने के लिए संघर्ष करने वाले पूर्व सैनिक प्रीतम सिंह जौहल का 95 साल की उम्र में निधन हो गया है. प्रीतम सिंह जौहल सिख-कनाडाई समुदाय की सबसे प्रतिष्ठित शख्सियत थे और उन्होंने द्वितीय विश्व युद्ध में भी हिस्सा लिया था.

कनाडा के ‘द ग्लोब’ और ‘मेल’ अखबार ने लेफ्टिनेंट कर्नल प्रीतम सिंह जौहल की बेटी के हवाले से बताया कि रविवार को सरे में उनका निधन हुआ.

द्वितीय विश्व युद्ध में लड़ने के अलावा जौहल ने 38 साल तक भारतीय सेना और केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल को भी अपनी सेवाएं प्रदान की थीं.

1993 में पगड़ी के लिए जंग

जौहल लेफ्टिनेंट-कर्नल के पद से रिटायर हुए थे. रिटायरमेंट के बाद वह अपने बच्चों के साथ 1980 में कनाडा चले गये. 1993 में वे तब खबरों में आये थे, जब उन्हें स्मृति दिवस पर न्यूटन लीजन में प्रवेश से रोका गया था. उस समय पगड़ीधारी सिखों को परिसर में प्रवेश की अनुमति नहीं थी.

सेना के अधिकारियों ने जोर देते हुए कहा कि जौहल और द्वितीय विश्व युद्ध में ब्रिटिश अंपायर में सेवाएं दे चुके अन्य सिख केवल पगड़ी उतारकर ही आ सकते हैं.

जबकि ब्रिटेन की महिला सैनिकों को उनकी टोपी पहनकर जाने की अनुमति थी. इससे अपमानित होकर उन्होंने सरकार को एक खुला पत्र लिखकर पगड़ीधारी सिखों की सूची जारी की थी, जो ब्रिटिश अंपायर का सर्वोच्च सैन्य सम्मान प्राप्त कर चुके थे.

जौहल पंजाब के जालंधर जिले में किसान परिवार में जन्मी चार संतानों में सबसे बड़े थे. उनके परिवार में एक बेटा और एक बेटी हैं.

First published: 30 June 2016, 10:37 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी