Home » इंटरनेशनल » Red corner notice issued against Maulana Masood Azhar,Abdul Rauf and in process against Kashim Jaan and Shahid Latif, NIA Sources
 

जैश प्रमुख मसूद अजहर के खिलाफ इंटरपोल का रेड कॉर्नर नोटिस

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 February 2017, 1:50 IST

पठानकोट में इस साल जनवरी में एयरफोर्स बेस पर हुए आतंकी हमले के मास्टरमाइंड और जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर सहित तीन आतंकियों के खिलाफ इंटरपोल ने रेड कॉर्नर नोटिस जारी किया है.

इंटरपोल ने मसूद अजहर के भाई रऊफ और मुख्य हैंडलर कासिफ जान के खिलाफ भी रेड कॉर्नर नोटिस जारी किया है. भारतीय जांच एजेंसियों की ओर से जुटाए गए सबूतों के आधार पर इंटरपोल ने ये रेड कॉर्नर नोटिस जारी किए हैं.

nia red corner

एनआईए ने जुटाए अहम सबूत


सूत्रों के मुताबिक राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद सरगना मसूद अजहर के खिलाफ कई अहम सबूत जुटाए हैं. आतंकियों के हैंडलर कासिफ जान के खिलाफ भी कई सबूत इकट्ठा किए गए हैं. 

अमेरिकी जांच एजेंसी एफबीआई की फॉरेंसिक रिपोर्ट से भी आतंकियों की मूवमेंट के कई सबूत मिले हैं. एफबीआई ने आतंकियों की मूवमेंट की पुष्टि भी की है. 

पढ़ें: पाकिस्तान: जेआईटी ने पठानकोट हमले को भारत का नाटक कहा

यह भी सामने आया है कि आतंकियों ने मसूद अजहर को फोन किए थे. पठानकोट हमले की जांच के लिए एनआईए की टीम पाकिस्तान जाने के लिए तैयार है, लेकिन इसके लिए लिखित इजाजत का इंतजार किया जा रहा है.

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के सलाहकार सरताज अजीज ने बीते दिनों संकेत दिए थे कि एनआईए की टीम के दौरे संबंधी भारत की अपील पर विचार हो सकता है. वहीं पाकिस्तान से आई जांच टीम ने मार्च में पठानकोट एयरबेस का दौरा किया था.

पठानकोट हमले का मास्टरमाइंड अजहर


इस साल की शुरुआत में दो जनवरी को पठानकोट एयरबेस पर हुए आतंकी हमले में चार आतंकवादी मारे गए थे. करीब 80 घंटे तक चले एनकाउंटर के दौरान सात सुरक्षाकर्मी भी शहीद हुए थे.

पांच सदस्यों वाली पाकिस्तानी जांच टीम पंजाब प्रांत के काउंटर टेररिज्म के एआईजी मुहम्मद ताहिर राय की अगुवाई में 28 मार्च को भारत आई थी.

पढ़ें: पाकिस्तान: पठानकोट हमले के आतंकियों का हमारे मुल्क से वास्ता नहीं 

इस टीम में पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई के लेफ्टिनेंट कर्नल तनवीर अहमद, लाहौर के इंटेलिजेंस ब्यूरो के डायरेक्टर जनरल मोहम्मद अज़ीम अरशद भी शामिल थे. जेआईटी में आईएसआई अफसर की मौजूदगी का भारत में विरोध हुआ था.

भारत ने जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मौलाना मसूद अजहर को पठानकोट हमले की साजिश रचने का जिम्मेदार ठहराया था. लेकिन पाकिस्तानी जेआईटी ने कहा था कि हमले में शामिल आतंकी उनके देश के नहीं थे.

पढ़ें:पठानकोट में फिदायीन हमला, 4 आतंकी मारे गए
First published: 17 May 2016, 5:48 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी