Home » इंटरनेशनल » Reuters reporters jailed in Myanmar freed from prison after more than 500 days
 

500 दिन जेल में काटने के बाद रिहा हुए रॉयटर्स के पत्रकार

कैच ब्यूरो | Updated on: 7 May 2019, 10:13 IST

म्यांमार में रॉयटर्स के पत्रकारों को गोपनीय कानून तोड़ने के मामले में जेल भेजा गया था. मंगलवार को यंगून के बाहरी इलाके में 500 दिनों से अधिक समय तक जेल से बाहर रहने के बाद जेल से मुक्त हुए. दो पत्रकारों, वा लोन (33), और क्यो सो ओओ (29) को सितंबर में दोषी ठहराया गया था और सात साल की जेल की सजा सुनाई गई थी.

राष्ट्रपति विन माइंट ने पिछले महीने से बड़े पैमाने पर हजारों अन्य कैदियों को माफ कर दिया. 17 अप्रैल से शुरू हुए पारंपरिक नए साल के समय देश भर के कैदियों को मुक्त करने के लिए अधिकारियों के लिए म्यांमार में यह प्रथा है. रॉयटर्स का कहना है कि दोनों पत्रकारों ने कोई अपराध नहीं किया था. ये दोनों पत्रकार रोहिंग्या मामलों को रिपोर्टिंग कर रहे थे.


 

दिसंबर 2017 में उनकी गिरफ्तारी से पहले, वा लोन और क्यॉ सो ओओ अगस्त 2017 में शुरू हुए एक सेना के हमले के दौरान पश्चिमी म्यांमार के राखाइन राज्य में सुरक्षा बलों और बौद्ध नागरिकों द्वारा 10 रोहिंग्या मुस्लिम पुरुषों और लड़कों की हत्या की जांच पर काम कर रहे थे. संयुक्त राष्ट्र के अनुमान के मुताबिक इस ऑपरेशन से 730,000 से अधिक रोहिंग्या बांग्लादेश से भाग गए.

अपराधियों, गवाहों और पीड़ितों के परिवारों की गवाही की विशेषता वाले दो व्यक्तियों की रिपोर्ट को मई में अंतरराष्ट्रीय रिपोर्टिंग के लिए पुलित्जर पुरस्कार से सम्मानित किया गया था. म्यांमार के सुप्रीम कोर्ट ने अप्रैल में पत्रकारों की अंतिम अपील को खारिज कर दिया था.
इन दोनों पत्रकारों की पत्नियों ने अप्रैल में माफी के लिए सरकार को एक पत्र लिखा था. पत्र में लिखा कि उनके पतियों ने कुछ भी गलत किया इसलिए उन्हें जेल से रिहा किया जाये.

First published: 7 May 2019, 10:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी