Home » इंटरनेशनल » Russia replies on american missile strike on Syria says many missile were destroyed
 

सीरिया मिसाइल हमले को लेकर आमने-सामने आए रूस और अमेरिका

कैच ब्यूरो | Updated on: 14 April 2018, 12:45 IST
(प्रतीकात्मक फोटो )

अमेरिका, फ्रांस और ब्रिटेन ने सीरिया पर हमला किया है. हमला राजधानी दमिश्क के आस पास के क्षेत्रों पर किया गया. हमले में राजधानी में मौजूद सीरियाई सेना और केमिकल रिसर्च सेंटर को निशाना बनाया गया था. सूत्रों के अनुसार सीरिया ने भी जवाबी हमला किया है. हमले के जवाब में रूस भी सामने आया है. रूस का कहना है कि पुतिन का अपमान बर्दाश्त नहीं किया जायेगा. एक रूसी दूत ने चेतावनी दी है कि हमले के परिणाम के लिए तैयार रहें.

सीरिया हमले का लाइव अपडेट

फ्रांस के एक मंत्री के अनुसार फ्रांस 'तत्काल प्रभाव' से सीरिया में फिर से राजनीतिक प्रक्रिया शुरू करना चाहता है. सीरिया के गृह युद्ध और रासायनिक हमले को लेकर ये कार्यवाई की जा रही है. अमेरिका ने सुबह सीरिया पर मिसाइल से हमला करने की घोषणा की. जिसमें कि ब्रिटेन और फ्रांस ने भी अमेरिका का साथ दिया. दूसरी तरफ रूस पर अमेरिका ने आरोप लगाया है कि रूस रासायनिक हमलों के बाद भी असद का साथ दे रहा है.

ये भी पढ़ें- सीरिया पर मिसाइल हमले के जवाब में बोला रूस, युद्ध होगा इसका परिणाम

हमले के बाद रूस की तरफ से प्रत्रिक्रिया आयी है, कि ''सीरिया के ऊपर 100 से ज़्यादा मिसाइलें दागी गईं, इनमें से काफी मिसाइलों को मार गिराया गया, हालांकि हमले में रूसी ठिकानों को कोई नुकसान नहीं पहुंचा है.'' अमेरिका में रूस के राजदूत एंटोनी एंटोलोव ने कहा- हमने चेतावनी दी थी की ऐसे हमलों के परिणाम भुगतने पड़ेंगे. अब जो होगा उसकी ज़िम्मेदारी अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस की है.

हमले पर प्रत्रिक्रियाएं

इस्राइल ने सीरिया पर किए गए अमेरिका और उसके सहयोगियों के हमले को जायज़ ठहराया.

सीरिया पर हुए हमले पर ईरान ने दी चेतावनी- सीरिया के आस-पास के क्षेत्रों में इसके गंभीर परिणाम होंगे.

NATO (North Atlantic Treaty Organization) प्रमुख ने सीरिया पर हुए हमले का समर्थन किया. आपको बता दें कि NATO 29 देशों का मिलिट्री गठबंधन है. अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस इसके तीन प्रमुख सदस्य हैं.

First published: 14 April 2018, 12:46 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी