Home » इंटरनेशनल » S Jaishankar says to china Jammu Kashmir is internal isseue wont impact status of boundry
 

कश्मीर को लेकर चीन ने उठाए सवाल तो विदेश मंत्री जयशंकर ने दिया करारा जवाब

कैच ब्यूरो | Updated on: 13 August 2019, 9:40 IST

विदेश मंत्री एस जयशंकर के चीन दौरे का आज आखिरी दिन है. इससे पहले सोमवार को उन्होंने चीन के विदेश मंत्री वांग ली से मुलाकात की. इस दौरान जब चीन ने जयशंकर के सामने कश्मीर का मुद्दा उठाया, तो विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा कि अनुच्छेद 370 हमारा आंतरिक मामला है और इसका किसी देश से कोई लेना-देना नहीं है.

वहीं चीनी विदेश मंत्री ने कहा कि वह कश्मीर मुद्दे पर भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव और उसकी जटिलताओं पर करीब से नजर बनाए हुए हैंवहीं जम्मू-कश्मीर से अनुछेद 370 हटाने जाने और राज्य का पुनर्गठन करने के मामले पर विदेश मंत्री ने कहा कि भारत ने जो फैसला लिया है वह उसके संविधान के तहत है और उससे न तो पाकिस्तान की सीमा पर कोई असर होता है और न ही चीन की.

 

बता दें कि चीन ने भारत के सामने जम्मू-कश्मीर और लद्दाख को केंद्र शासित प्रदेश बनाने के फैसले पर सवाल खड़े किए थे. साथ ही कहा था कि भारत के इस फैसले से क्षेत्रीय अखंडता पर असर पड़ सकता है. एक संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस में विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा कि, "बातचीत के दौरान अक्साई चिन का मसला भी उठा, चीन को चिंता थी कि अनुच्छेद 370 की वजह से भारत-चीन की सीमा पर असर पड़ सकता है. लेकिन, उन्होंने साफ किया कि भारत का फैसला अंतरराष्ट्रीय सीमा पर कुछ असर नहीं डालेगाइससे सिर्फ भारत के अंदर ही राज्य में असर होगा.”

जम्मू-कश्मीर पर फैसले के बाद पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी भी चीन पहुंचे थे, लेकिन चीन ने इस मामले पर शांति का रास्ता ही अपनाया. चीन ने अपने बयान में कहा था कि, "भारत के फैसले के बारे में उन्हें पता है, वह उम्मीद करते हैं कि इससे क्षेत्र में शांति बनी रहेगी.”

जम्मू-कश्मीर से अनुछेद 370 को निष्क्रिय करने के बाद पाकिस्तान दुनियाभर के देशों से लगारा मदद की गुहार लगा रहा है. यही नहीं वह भारत को लेकर भी नकारात्मक खबरें फैला रहा है. एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान पाक विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने कहा था कि दुनिया के सामने कश्मीर का मसला समझाना और अपने हक में कर लेना इतना आसान नहीं है. इससे ये साफ हो जाता है कि कोई भी देश पाकिस्तान की बात मानने को तैयार नहीं है और हर कोई इस फैसले को भारत का आंतरिक मसला बता रहा है.

दिल्ली एयरपोर्ट को मिली उड़ाने की धमकी, कहा- बचा सको तो बचा लो

First published: 13 August 2019, 9:23 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी