Home » इंटरनेशनल » sadiq khan elected as a first muslim mayor of london
 

पाकिस्तानी मूल के सादिक खान बने लंदन के पहले मुस्लिम मेयर

कैच ब्यूरो | Updated on: 7 May 2016, 12:42 IST
पाकिस्तान मूल के सादिक खान शुक्रवार को लंदन के पहले मुस्लिम मेयर बन गए हैं. ब्रिटेन की राजधानी लंदन में बस ड्राइवर के बेटे का मेयर चुना जाना राजनीति में एक ऐतिहासिक मिसाल माना जा रहा है.

लेबर पार्टी के प्रत्याशी सादिक खान ने कड़े चुनावी मुकाबले में कंजरवेटिव पार्टी के प्रत्याशी जैक गोल्डस्मिथ को हराया. सादिक खान की जीत से खुश होकर न्यूयार्क के मेयर बिल डे ब्लासियो ने उन्हें ट्विटर पर बधाई संदेश भेजा है.

संदेश में न्यूयॉर्क के मेयर ने लिखा है, "लंदन के नए मेयर और अफोर्डेबल हाउसिंग एडवोकेट सादिक खान को जीत की बधाई."sadiq-khan


जैक गोल्डस्मिथ को दी मात


लंदन में मेयर के चुनाव प्रचार में सत्ताधारी कंजरवेटिव पार्टी के प्रत्याशी जैक गोल्डस्मिथ ने हिंदू और सिख वोटरों को लुभाने के लिए पीएम मोदी के नाम का जमकर इस्तेमाल किया था.

वहीं लंदन के कुछ मुस्लिम संगठनों ने कंजरवेटिव पार्टी के प्रत्याशी जैक गोल्डस्मिथ पर यह भी आरोप लगया कि वो वोटरों को प्रभावित करने के लिए खास तौर पर डिजायन किए गए पर्चे बांट रहे हैं.

इन पर्चों में हिंदू, सिख, तमिल वोटरों को ध्‍यान में रखते हुए नरेंद्र मोदी, 84 के सिख दंगों और श्रीलंका के गृह युद्ध का विशेष जिक्र था. लेकिन इतनी कवायद के बाद भी उन्हें हार का मुंह देखना पड़ा.

उमर अब्दुल्ला ने दी बधाई


सादिक खान की जीत पर नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता और जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने भी बधाई दी है.

sadiq-khan-1

पाकिस्तान मूल के 45 वर्षीय सादिक खान ने लंदन में बतौर मानव अधिकार वकील अपने करियर की शुरुआत की. इसके बाद सादिक 2005 में सांसद बने.

परिवार का भारत से ताल्लुक


2009 से 2010 के बीच सादिक खान, ब्रिटेन के प्रधानमंत्री गार्डन ब्राउन की सरकार में ट्रांसपोर्ट मिनिस्‍टर रह चुके हैं. उनकी शादी सॉलिसिटर सादिया अहमद से हुई है. सादिक खान की दो बेटियां हैं.

खान का परिवार 1947 में विभाजन से पहले भारत में ही रहता था. लेकिन विभाजन के बाद खान के दादा पाकिस्‍तान चले गए थे. 1970 में सादिक के जन्‍म से कुछ समय पहले उनके माता-पिता ब्रिटेन में शिफ्ट हो गए थे.

First published: 7 May 2016, 12:42 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी