Home » इंटरनेशनल » SARS-CoV-2 has been circulating unnoticed in bats for decades
 

Coronavirus: 72 साल पहले चमगादड़ों में पनपा था कोरोना वायरस, नए शोध में हुए चौकाने वाले खुलासे

कैच ब्यूरो | Updated on: 30 July 2020, 16:10 IST

चीन के वुहान शहर से बीते साल फैले कोरोना वायरस से दुनिया बुरी तरह प्रभावित हुई है. इस वायरस की चपेट में आने से अभी तक 6 लाख 67 हजार से अधिक लोग अपनी जान गंवा चुके हैं जबकि 1 करोड़ 70 लाख से अधिक लोग इससे संक्रमित हो चुके हैं. इस वायरस से सबसे अधिक प्रभावित देश अमेरिका है, जहां 40 लाख से अधिक लोग इस वायरस से संक्रमित हो चुके हैं जबकि एक लाख से अधिक लोग इससे अपनी जान गंवा चुके हैं. कोरोना वायरस इसलिए भी खतरनाक हैं क्योंकि यह इंसानों को किस तरह अपनी चपेट में लेता है और इसका इसांनों पर क्या असर पड़ता है, इसको लेकर
अभी भी शोध हो रहे हैं.

कोरोना वायरस को लेकर कई लोग दावा करते हैं कि चीन ने इसे लैब में बनाया है जबकि वैज्ञानिकों का मानना है कि यह वायरस चमगादड़ों से इंसानों मं फैला है. यह वायरस एकदम नया है, इसीलिए वैज्ञानिकों के पास इसको लेकर ज्यादा जानकारी उपलब्ध नहीं है. वहीं अब एक शोध में दावा किया गया है कि कोरोना वायरस 72 साल पहले ही चमगादड़ों में पनपा था, और लगातार इसके नए रूप सामने आते रहे हैं.


रिसर्च जर्नल ‘नेचर बायोलॉजी’ के हालिया अंक में पेनसिल्वेनिया स्टेट यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने अपना एक शोध प्रकाशित किया है जिसमें उन्होंने अलग अलग अध्यनन के बाद दावा किया है कि कोरोना वायरस पहली बार साल 1948 में चमगादड़ों में पनपा था. शोध में दावा किया गया है कि साल 1969 और साल 1982 में भी कोरोना वायरस के बदले हुए स्वरूप सामने आए थे.

First published: 30 July 2020, 16:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी