Home » इंटरनेशनल » Saudi Arabia ends death penalty for minors, this is King Salman's new decree
 

सऊदी अरब ने ख़त्म की नाबालिगों के लिए मौत की सजा, ये है किंग सलमान का नया फरमान

कैच ब्यूरो | Updated on: 27 April 2020, 9:23 IST

सऊदी अरब के किंग सलमान ने नाबालिगों द्वारा किए गए अपराधों के लिए मौत की सजा को समाप्त करने का आदेश दिया है. अधिकारियों ने एक बयान जारी कर इसकी जानकारी दी है. कहा गया है कि इस सजा को कैद या जुर्माने में बदला जाना चाहिए. मीडिया रिपोर्ट के अनुसार इसे देश में मानवाधिकार रिकॉर्ड को सुधारने की कवायद के रूप में देखा जा रहा है. इससे पहले भी देश में कई उदारवादी कदम उठाये गए हैं. जिसके तहत 2018 महिलाओं को कार चलाने की अनुमति दी गई थी.

हालही में सऊदी अरब के सुप्रीम कोर्ट ने कोड़े मारने की सजा को भी ख़त्म कर दिया था. किंग सलमान के बेटे और वारिस क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान इन प्रतिबंधों के ढीलेपन के पीछे बताये जा रहे हैं. क्राउन प्रिंस ने देश को आधुनिक बनाने, विदेशी निवेश को आकर्षित करने और विश्व स्तर पर सऊदी अरब की प्रतिष्ठा को फिर से विकसित करने की मांग की है. वह उदारवादियों, महिलाओं के अधिकार कार्यकर्ताओं, लेखकों, उदारवादी मौलवियों और सुधारकों पर एक समानांतर देखरेख करते हैं.


तुर्की में सऊदी लेखक जमाल खशोगी की 2018 हत्या ने अंतरराष्ट्रीय स्तर पर तीखी आलोचना हुई थी. किंग सलमान द्वारा जारी किए गए शाही फरमान में देश के अल्पसंख्यक शिया समुदाय के कम से कम छह लोगों को मौत की सजा माफ की जा सकती है, जिन्होंने कथित रूप से 18 साल से कम उम्र में अपराध किए हों. पिछले साल सऊदी अरब ने 16 साल के एक दोषी युवक को मृत्युदंड दिया था.

एमनेस्टी इंटरनेशनल ने कहा कि अब्दुलकरीम अल-हवाज को सऊदी अरब के शिया-आबादी वाले क्षेत्रों में विरोध प्रदर्शन में उनकी भागीदारी से संबंधित अपराधों का दोषी पाया गया था. एमनेस्टी इंटरनेशनल और ह्यूमन राइट्स वॉच लंबे समय से मृत्युदंड को समाप्त करने की बात करता रहा है.

कोरोना वायरसः दुनियाभर में अब तक 2 लाख छह हजार से ज्यादा लोगों की मौत, भारत में 27 हजार संक्रमित

First published: 27 April 2020, 9:12 IST
 
अगली कहानी