Home » इंटरनेशनल » Serbia Appeal To Couples Do Not Delay For Children Birth
 

इस देश ने की शादीशुदा जोड़ों से अनोखी अपील, कहा- बच्चे पैदा करने में ना करो देर

कैच ब्यूरो | Updated on: 17 December 2018, 17:03 IST
(प्रतीकात्मक फोटो)

हमारे देश में भले ही बढ़ती जनसंख्या को रोकने के लिए सरकार अपील करती हो, लेकिन दुनिया में एक देश ऐसा भी है जहां की सरकार अपने नागरिकों से जल्द से जल्द बच्चे पैदा करने की अपील कर रही है. जिससे उनके देश की आबादी बढ़ सके. ये अनोखी अपील सर्बिया ने अपने नागरिकों से की है. सर्बिया ने अपने नागरिकों से कहा है कि वे बच्चे पैदा करने में किसी भी तरह की देर ना करें.दरअसल, सर्बिया की लगातार घट रही आबा

दी को लेकर सरकार बेहद चिंतित है. यहां के तमाम लोग पहले ही पालयन कर चुके है और ये सिलसिला लगातार जारी है. ऐसे में सरकार का कहना है कि देश के दंपति जल्द से जल्द बच्चे पैदा कर लें जिससे देश की घटती आबादी को रोका जा सके. सरकार ने दंपतियों से अपील की है कि ‘बच्चे पैदा करो, देरी मत करो!’ इसके लिए सर्बिया ने अपने देश के युवा दंपतियों से ये अपील की है. बता दें कि बच्चों की कम आबादी की समस्या को दूर करने के लिए सर्बिया में इस संबंध में लगाए जा रहे नारों में से एक और है.

बच्चे पैदा करन के लिए सरकार ने नारा दिया है कि, ‘चलो बच्चों की किलकारियां सुनें.’ दूसरी ओर, देश की महिलाओं का कहना है कि उन्हें आबादी बढ़ाने के लिए बेहतर सहयोग चाहिए ना कि महज प्रेरणादायक शब्दबता दें कि सर्बिया में बहुत लोग देश छोड़कर जा रहे हैं और इसके साथ जन्म दर भी तेजी से गिर रही है. देश में औसतन हर दो परिवार में तीन बच्चे हैं जो यूरोप में सबसे कम है और इससे सर्बिया की आबादी गिरकर 70 लाख पहुंच गई है. यही नहीं संयुक्त राष्ट्र का अनुमान है कि 2050 तक सर्बिया की आबादी और 15 फीसदी तक कम हो सकती है.

ये भी पढ़ें- अनोखी है इस महिला की कहानी, तालाब में कटता है इसका पूरा दिन

प्रतीकात्मक फोटो

बता दें कि कम बच्चे पैदा करने की प्रवृत्ति को दूर करने के लिए सर्बिया अधिकारियों ने अनेक प्रस्ताव दिए है. इसमें जून में घोषित एक योजना भी शामिल हैं. योजना के अनुसार उन इलाकों में कम मंजिलों वाले मकान बनेंगे जहां बच्चों की दर कम हैवहीं राष्ट्रपति एलेक्जेंडर वुकिक ने कहा कि यह एक अध्ययन पर आधारित है. जिसमें पता चला है कि दो से चार मंजिला घरों में रहने वाले दंपतियों में बच्चे पैदा करने की दर दोगुना ज्यादा है. इसके अलावा महिलाओं को और बच्चे पैदा करने के लिए प्रेरित करने के वास्ते नए मातृत्व देखभाल कानून पारित किए गए हैं.

ये भी पढ़ें- शराब के नशे में इस शख्स ने काट लिया अपने शरीर का ऐसा अंग, देखकर निकल गई घरवालों की चीख

First published: 17 December 2018, 17:03 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी