Home » इंटरनेशनल » Set Back to Pakistan, Kashmir is an internal matter of India says America
 

कश्मीर पर अमेरिका की पाकिस्तान को दो टूक, बताया भारत का आंतरिक मामला

कैच ब्यूरो | Updated on: 12 July 2016, 11:32 IST
(पीटीआई)

अमेरिका ने कश्मीर को भारत का आंतरिक मामला बताया है. जिसके बाद जम्मू-कश्मीर में हिजबुल कमांडर बुरहान वानी की मौत का रोना रोने वाले पाकिस्तान को करारा झटका लगा है.

पाकिस्तान के पीएम नवाज शरीफ ने घाटी में हिंसक प्रदर्शन के दौरान भारत की कार्रवाई को गलत बताते हुए बुरहान वानी के एनकाउंटर पर हैरानी जताई थी. अमेरिका ने कहा है कि कश्मीर भारत का आंतरिक मामला है और सभी पक्षों को वानी के मारे जाने के बाद घाटी में भड़के तनाव का शांतिपूर्ण समाधान निकालने की कोशिश करनी चाहिए.

शांतिपूर्ण समाधान की जरूरत

अमेरिकी विदेश विभाग के एक प्रवक्ता ने कहा, "हमने कश्मीर में भारतीय बलों और प्रदर्शनकारियों के बीच झड़पों की खबरें देखी हैं और हम हिंसा से चिंतित हैं. हम सभी पक्षों को शांतिपूर्ण समाधान ढूंढ़ने की दिशा में काम करने को प्रोत्साहित करते हैं. अमेरिका ने इस मुद्दे पर भारत से बात नहीं की है, क्योंकि यह भारत का आंतरिक मामला है."

पढ़ें: बुरहान पर नवाज और हाफिज के बिगड़े बोल, भारत ने दी चुप रहने की नसीहत

इससे पहले पाकिस्तानी पीएम नवाज शरीफ ने एक बयान जारी किया था, जिसमें कहा गया था कि वे कश्मीर में बुरहान वानी के मारे जाने से सदमे में हैं. इसके बाद पाकिस्तान की ओर से कहा गया कि वो कश्मीर का मुद्दा अंतरराष्ट्रीय मंच पर उठाएगा.

अब इस मुद्दे पर अमेरिका के बयान से पाकिस्तान को बड़ा झटका लगा है. 

इस्लामाबाद में भारतीय उच्चायुक्त तलब

इस बीच पाकिस्तान ने सोमवार को कश्मीर हिंसा के मामले को लेकर भारत के उच्चायुक्त गौतम बांबवाले को तलब किया.

सोमवार शाम पाकिस्तान के विदेश सचिव एजाज अहमद चौधरी ने भारतीय उच्चायुक्त के सामने बुरहान वानी समेत कई लोगों के मारे जाने पर चिंता जाहिर की. साथ ही चौधरी ने कहा है कि इस तरह का बल प्रयोग किसी भी हालात में मंजूर नहीं है.

पढ़ें: जम्मू कश्मीर: इस बार की गर्मियां बहुत खूनी हो सकती है, अब तक 30 मौतें

आतंकी संगठन हिजबुल मुजाहिदीन के टॉप कमांडर 22 वर्षीय बुरहान मुजफ्फर वानी को सुरक्षा बलों ने शुक्रवार रात दक्षिण कश्‍मीर में मार गिराया था.

इस घटना के बाद से राज्य में आगजनी और हिंसा जारी है. नागरिकों की ओर से सुरक्षा बलों पर हमले किए जा रहे हैं. अब तक हिंसक प्रदर्शनों के दौरान कार्रवाई में एक पुलिसकर्मी समेत 30 लोग मारे जा चुके हैं.

First published: 12 July 2016, 11:32 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी