Home » इंटरनेशनल » South Korea changed 59 year old law to physically discipline their children is to be scrapped
 

इस देश में अब मां-बाप ने की बच्चों की पिटाई तो होगी जेल, सरकार ने बदला नियम

कैच ब्यूरो | Updated on: 25 May 2019, 13:11 IST
(प्रतीकात्मक फोटो)

हमारे देश में भले ही मां-बाप अपने बच्चों की पिटाई करना अपना अधिकार मानते हों, लेकिन दक्षिण कोरिया में ऐसा नहीं है. अब यहां बच्चों की पिटाई करने पर मां-बाप को जेल की हवा खानी पड़ सकती है. इसके लिए दक्षिण कोरिया की सरकार ने 59 साल पुराने कानून को खत्म करने का फैसला लिया है. इस कानून के तरह अब माता-पिता अपने बच्चों की पिटाई नहीं कर पाएंगे.

दक्षिण कोरिया के सामाजिक कल्याण मंत्री पार्क नेउंग-हू का कहना है कि, “ज्यादातर लोग इस बात को मानते हैं कि बच्चों के खिलाफ होने वाली हिंसा एक गंभीर सामाजिक समस्या है. लोग बच्चों को शारीरिक सजा देना अच्छा नहीं मानते. इस सोच को अब मंत्रालय बदलेगा.”

हालांकि दक्षिण कोरिया के लोग सरकार के इस फैसले से खुश नहीं हैं और विरोध कर रहे हैं. लोगों का कहना है कि कई बार बच्चों को सुधारने के लिए उनकी पिटाई करना जरूरी हो जाता है. आम लोगों के अलावा इस नए कानून का विरोध पैरेंट एसोसिएशन की प्रमुख ली क्यूंग-जा ने भी कर रही हैं. क्यूंग-जा का कहना है, "मैं अपने बच्चों की पिटाई करूंगी चाहे फिर इसके लिए मुझे सजा ही क्यों ना हो जाए."

इसके अलावा एक अन्य नागरिक ने कहा कि, "बच्चा हमारा है और उनकी जिम्मदेदारी भी हमारी है. सरकार घरेलू मामलों में दखल देने वाली कौन होती है. अगर वो अपने माता-पिता की बात नहीं मानेंगे और हम उन्हें पीट भी नहीं पाएंगे, तो फिर वो सुधरेंगे कैसे?"

बता दें कि दक्षिण कोरिया में साल 1960 में ये कानून बनाया गया था कि माता-पिता अपने बच्चों को अनुशासित रखने के लिए उनकी पिटाई कर सकते हैं. इसी के साथ स्कूल में भी ये कानून साल 2010 तक लागू था. सरकार का कहना है कि देश में बढ़ते बच्चों से मारपीट के मामले बढ़ते जा रहे हैं. साल 2001 से 2017 के बीच बच्चों के खिलाफ अपराध के बहुत से मामले सामने आए हैं. दक्षिण कोरिया में हुए एक सर्वे में के मुताबिक 76 फीसदी लोग बच्चाें को मारना-पीटना जरूरी मानते हैं.

First published: 25 May 2019, 13:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी