Home » इंटरनेशनल » South Korean soldier was shot North korea and then set on fire so that the coronavirus would not spread
 

पहले सैनिक को गोली मारी फिर कोरोना के डर से आग लगा दी, उत्तर और दक्षिण कोरिया फिर आमने-सामने

कैच ब्यूरो | Updated on: 24 September 2020, 15:10 IST

North korea Vs South Korea; उत्तर कोरियाई सैनिकों ने एक दक्षिण कोरियाई रक्षक की गोली मारकर हत्या कर दी, जिसके बाद दोनों देश एक बार फिर से आमने-आमने आ सकते हैं. बीबीसी अपनी रिपोर्ट में बताया है कि उत्तर कोरिया ने सैनिक को गोली मारने के बाद उसे आग लगा दी, ताकि कोरोना वायरस का खतरा पैदा न हो. सियोल का कहना है कि उसे इंटेलिजेंस के आधार पर यह सब पता चला है. दक्षिण कोरियाई सरकार ने कहा कि फिशरीज डिपार्टमेंट के लिए काम करने वाला यह शख्स सोमवार को गायब होने से पहले योनपेयोंग (Yeonpyeong) द्वीप के पास उत्तर कोरिया से लगी सीमा से लगभग 10 किलोमीटर दूर अपनी गश्ती नाव पर था.

एक दक्षिण कोरियाई सैन्य अधिकारी ने समाचार एजेंसी एएफपी को बताया कि पकड़ने के लगभग छह घंटे बाद सैनिक मार दिया गया. उसे पानी में गोली मारी गई." उन्होंने कहा “उत्तर कोरियाई सैनिकों ने उसके शरीर पर तेल डाला और उसे पानी में जला दिया. हम आकलन कर रहे हैं कि उसे उत्तर कोरिया के एंटी-कोरोना वायरस उपाय के तहत किया गया था.''


अधिकारी ने बताया कि सैनिक ने एक लाइफ जैकेट पहनी थी और उसके जूते दक्षिण कोरियाई नाव पर पाए गए. अधिकारियों ने कहा कि उसने स्वेच्छा से पानी में प्रवेश किया था. उन्होंने कहा, "हमें खुफिया जानकारी मिली है कि उन्होंने पूछताछ के दौरान दोष के बारे में बताया था." हालांकि अधिकारी ने इस जानकारी का स्रोत प्रदान करने से इनकार कर दिया.

दक्षिण कोरिया ने कहा कि वह इस तरह के अपमानजनक कृत्य की कड़ी निंदा करता है और उत्तर से आग्रह किया कि वह एक स्पष्टीकरण प्रदान करे कि वह उन लोगों को दंडित करेगा, जिन्होंने यह किया. देश के रक्षा मंत्रालय ने एक बयान में कहा "हम उत्तर कोरिया को कड़ी चेतावनी देते हैं कि इस घटना के लिए साड़ी जिम्मेदारियां उसकी हैं. हालांकि प्योंगयांग ने अभी तक इस मामले पर कोई टिप्पणी नहीं की है.

उत्तर कोरिया ने अपनी सीमाओं को कड़ा कर दिया है और माना जाता है कि देश में कोविड -19 को रोकने के लिए "शूट-टू-किल" नीति है. उत्तर कोरिया ने अब तक वायरस के किसी भी मामले की पुष्टि नहीं की है, जिसका असर दुनिया के लगभग हर देश पर पड़ा है. हालांकि जून में कासोंग शहर को लॉक किया गया था. दावा किया गया था कि देश में कोरोना वायरस का पहला संदिग्ध मामला वहां दर्ज किया गया था.

Coronavirus: इस देश में आयी कोरोना वायरस महामारी की दूसरी लहर, PM ने लोगों को किया सावधान

First published: 24 September 2020, 14:59 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी