Home » इंटरनेशनल » student organizations Letter to US Congress, said- ban on Modi government if NRC-CAA is not withdrawn
 

छात्र संगठनों का US कांग्रेस को पत्र, कहा- NRC-CAA वापस नहीं लिया तो मोदी सरकार पर लगाएं बैन

कैच ब्यूरो | Updated on: 21 December 2019, 15:50 IST

अमेरिका में छात्र संगठनों ने शनिवार को भारतीय संसद द्वारा पारित नागरिकता संशोधन अधिनियम के खिलाफ अमेरिकी कांग्रेस को एक पत्र लिखा है. छात्रों ने नागरिकता कानून को अवैध और असंवैधानिक बताया है. उनका कहना है कि कानून में धार्मिक भेदभाव किया गया है. छात्रों ने नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार के अधिकारियों के खिलाफ प्रतिबंध लगाने का भी अनुरोध किया है.

एक रिपोर्ट के अनुसार पत्र पर हस्ताक्षर करने वाले कुछ छात्र संगठनों में येल कॉलेज साऊथ एशियन सोसाइटी, कोलंबिया विश्वविद्यालय साऊथ एशियन संगठन, सिख एट येल यूनिवर्सिटी, ब्राउन विश्वविद्यालय मुस्लिम छात्र संघ शामिल हैं.  हालांकि हार्वर्ड कॉलेज साउथ एशियन एसोसिएशन और प्रिंसटन यूनिवर्सिटी के एशियन अमेरिकन स्टूडेंट्स एसोसिएशन जैसे संगठनों के कुछ सदस्यों ने पत्र पर हस्ताक्षर नहीं किए.


 

पत्र में लिखा गया है "11 दिसंबर को दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र ने नागरिकता संशोधन अधिनियम पारित किया, जो एक अवैध और असंवैधानिक कानून है, जिसका उद्देश्य मुसलमानों को भारतीय नागरिकता से बाहर करना है." कहा गया है कि ''मुसलमानों और गैर-मुसलमानों में भारतीयों को विभाजित करके, बिल स्पष्ट रूप से कानून में धार्मिक भेदभाव को सुनिश्चित करता है."

पत्र में कहा गया है कि "हिंदुत्व का उद्देश्य भारत की संस्कृतियों और विश्वासों की विविधता को मिटाना है, देश को हिंदू सभ्यता में पुनर्परिभाषित करना और मुसलमानों के प्रति हिंसक और बहिष्कृत दृष्टिकोण को बढ़ावा देना है". हस्ताक्षरकर्ताओं ने यह भी आरोप लगाया कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ, भाजपा के वैचारिक पेरेनेट हैं. संगठनों ने कहा "नागरिकता संशोधन विधेयक 200 मिलियन मुसलमानों की आबादी को हाशिए पर रखने का एक कदम है.

हस्ताक्षरकर्ताओं का कहना है कि अमेरिका की कांग्रेस को नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार के अधिकारियों पर प्रतिबंध लगाना चाहिए जब तक कि वह नागरिकता संशोधन अधिनियम और नागरिकों के राष्ट्रीय रजिस्टर को रद्द नहीं कर देता. पत्र येल साउथ एशियन सोसाइटी पॉलिटिकल चेयरपर्सन श्रिया सिंह द्वारा लिखा गया है और येल मुस्लिम स्टूडेंट एसोसिएशन के सदस्य ज़ियाद अहमद द्वारा संपादित किया गया है.

 नहीं मिल रही किसी देश में रहने की जगह तो मात्र इतने रुपये में खरीदें बांग्लादेश की नागरिकता

First published: 21 December 2019, 15:50 IST
 
अगली कहानी