Home » इंटरनेशनल » students protest against gun culture in washington demonstrations on 700 locations
 

अमेरिका में दुनिया का सबसे बड़ा विरोध प्रदर्शन, इसलिए सड़कों पर उतरे छात्र

कैच ब्यूरो | Updated on: 25 March 2018, 12:46 IST

अमेरिका में एक बार फिर गन कल्चर के खिलाफ विरोध शुरु हो गया है. 40 दिन पहले फ्लोरिडा के एक स्कूल में हुई फायरिंग में 17 बच्चों की मौत हो गई थी. इसी से नाराज लोग लगातार गन कल्चर के खिलाफ विरोध जता रहे हैं. शनिवार को इस विरोध प्रदर्शन ने ऐतिहासिक रूप ले लिया और राजधानी वॉशिंगटन में दुनिया का सबसे बड़ा मार्च निकाला गया. इस विरोध प्रदर्शन में पांच लाख से ज्यादा लोग शामिल हुए. बता दें कि इससे पहले अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा के शपथ ग्रहण समारोह में ही इतने लोग शामिल हुए थे.

गन कल्चर के खिलाफ विरोध प्रदर्शन अमेरिकी राजधानी वॉशिंगटन में ही नहीं बल्कि पूरे अमेरिका में 700 से ज्यादा जगहों पर प्रदर्शन किया गया. यही नहीं ब्रिटेन के लंदन के साथ जापान की राजधानी टोक्यो, ऑस्ट्रेलिया के सिडनी और भारत में मुंबई समेत दुनिया के 100 शहरों में गन कंट्रोल को लेकर विरोध प्रदर्शन किया गया.

छात्रों के विरोध प्रदर्शन को मिल रहा सेलिब्रिटीज का साथ

वॉशिंगटन में हुए गन कल्चर के खिलाफ प्रदर्शन में लाखों लोग सड़क पर उतर आए. इसमें कई बड़े सेलिब्रिटीज ने भी प्रदर्शन कर रहे छात्रों का साथ दिया. इस विरोध प्रदर्शन में गायक आरियाना ग्रांड, माइली सायरस और लिन मिरांडा सरीखी सिलेब्रिटीज ने छात्रों का हौसला बढ़ाया. उन्होंने अमेरिका की कैपिटोल बिल्डिंग के सामने स्टेज परफार्मेंस देकर इस विरोध प्रदर्शन का समर्थन किया.

व्हाईट हाउस ने की छात्रों की हिम्मत की सराहना

व्हाइट हाउस के प्रवक्ता जैक पार्किन्सन ने छात्रों की तारीफ करते हुए कहा, “हम उन सैकड़ों हिम्मतवाले अमेरिकियों की तारीफ करते हैं जो अपने अभिव्यक्ति की आजादी का इस्तेमाल कर रहे हैं.” इसके साथ ही उन्होंने गन कंट्रोल के लिए उठाए गए राष्ट्रपति ट्रम्प के कदमों के बारे में भी बताया.

बता दें कि ट्रम्प गन कंट्रोल के मामले में कड़े कदम उठाने की बात कह चुके हैं. ट्रम्प बम्प स्टॉक (ऐसे उपकरण जिनसे रायफल मशीन गन की तरह गोलीबारी करती है) और स्कूलों की सिक्युरिटी बढ़ाने के लिए टीचरों और छात्रों को ट्रेनिंग देने की बात कह चुके हैं.

जब गन कल्चर को लेकर रो पड़े थे बराक ओबामा

तीन साल पहले तत्कालीन अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा रो पड़े थे जब ऑरेगॉन के एक कॉलेज में नौ लोगों की हत्या कर दी गई थी. लेकिन अमेरिकी कांग्रेस के 70 फीसदी सांसदों हथियारों का समर्थन किया था और इस तरह ओबामा बेबस हो गये थे. वहीं फ्लोरिडा के स्कूल में हुई फायरिंग के बाद राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्ंरप ने कहा था कि फायरिंग की घटनाओं से निपटने के लिए हर टीचर के हाथ में पिस्टल थमा देंगे.

ये भी पढ़ें- जिस शख्स ने अरस्तु और हिटलर से प्रेरणा लेकर ट्रम्प को बनाया प्रेजिडेंट

First published: 25 March 2018, 12:43 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी