Home » इंटरनेशनल » swedish academy says nobel literature prize will not be awarded this year due to sex scandal
 

इस साल नहीं दिया जाएगा साहित्य का नोबेल, सेक्स स्कैंडल में फंसी संस्था

कैच ब्यूरो | Updated on: 4 May 2018, 14:51 IST

इस साल साहित्य में नोबेल पुरस्कार नहीं दिया जाएगा, इसकी वजह नोबेल पुरस्कार प्रदान करने वाली संस्था हैं. खबरों के अनुसार नोबेल पुरस्कार प्रदान करने वाली संस्था सेक्स स्कैंडल में फंस गई है. इस वजह से साल 2018 का साहित्य का नोबेल पुरस्कार नहीं प्रदान किया जाएगा. नोबेल पुरस्कार के तौर पर विजेता को 90 लाख स्वीडिश क्रोनर (करीब सात करोड़ रुपये) दिए जाते हैं.

इस पूरे मामले में बीबीसी ने एक रिपोर्ट जारी की है, उस रिपोर्ट के मुताबिक फ्रेंच फोटोग्राफर जीन क्लाउड अरनॉल्ट पर कथित यौन दुराचार को लेकर स्वीडिश एकेडमी आलोचनाओं के घेरे में है. अरनॉल्ट, एकेडमी की एक पूर्व सदस्य और कवियित्री कटरीना फ्रोस्टेनसन के पति हैं. बता दें कि पिछले साल नवंबर में 18 महिलाओं ने 'हैश मी टू' आंदोलन के माध्यम से अरनॉल्ट पर यौन हमला व उत्पीड़न के आरोप लगाए थे.

एकेडमी की परिसंपत्ति को लेकर भी कथित तौर पर कई आरोप लगाए गए हैं. अरनॉल्ट ने सभी आरोपों से इनकार किया है. गौरतलब है कि इससे पहले साल 1943 में साहित्य में नोबेल पुरस्कार द्वितीय विश्व युद्ध को लेकर स्थगित कर दिया गया था.

इस पूरे प्रकरण में एकेडमी ने बताया कि साल 2018 का नोबेल पुरस्कार 2019 में दिया जाएगा, एकेडमी का ये फैसला यौन शोषण के आरोपों के चलते लिया गया है. स्‍टॉकहोम में एक साप्ताहिक बैठक में यह फैसला किया गया है कि यौन उत्पीड़न के आरोपों और वित्तीय अपराधों के घोटालों के कई मामलों के बाद एकेडमी विजेता चुनने की स्थिति में नहीं है.

ये भी पढे़ं: IPL के बाद कोहली अफगानिस्तान को छोड़ यहां खेलेंगे 'विराट' पारी

First published: 4 May 2018, 14:51 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी