Home » इंटरनेशनल » Terrorist Attack in Pakistan, more than 500 died in this year
 

आतंकियों को पनाह देने के लिए बदनाम पाकिस्तान ने खुद झेले इतने आतंकी हमले, सैंकड़ों की गई जान

कैच ब्यूरो | Updated on: 8 January 2019, 15:03 IST
(प्रतीकात्मक तस्वीर)

भारत का पड़ोसी देश और आतंकियों को पनाह देने के लिए बदनाम पाकिस्तान ने साल 2018 में खुद कई आतंकी हमले झेले हैं. बीते एक साल में पाकिस्तान में कुल 262 आतंकी हमले हुए हैं. इन हमलों में पाकिस्तान के करीब 600 लोगों के मारे जाने की खबर है. इस बारे में थिंक टैंक पाक इंस्टीट्यूट फॉर पीस स्टडीज ने पाकिस्तान सुरक्षा रिपोर्ट 2018 में इस बात का दावा करते हुए ये आंकड़े पेश किए हैं. इस रिपोर्ट में ये जानकारी दी गई है कि पाकिस्तान में 25 जुलाई को हुए आम चुनावों से पहले मुल्क में कई आतंकी हमलों की घटनाएं हुई हैं.

इन हमलों में पाकिस्तान में सुरक्षा जवानों और अधिकारियों समेत कुल 595 लोगों की जान चली गई. वहीं इन हमलों में 1030 लोग बुरी तरह से घायल हुए. पाक इंस्टीट्यूट फॉर पीस स्टडीज की रिपोर्ट के अनुसार केवल बीत साल 2018 में ही आतंकियों ने 136 हमले सुरक्षा एजेंसियों को निशाना बनाते हुए किए. वहीं नेताओं और अनेक पार्टियों के कार्यकर्ताओं पर भी 24 हमले हुए हैं .वहीं रिपोर्ट में इस बात का भी जिक्र किया गया है कि पाकिस्तान की सुरक्षा एजेंसियां इन हमलों से बचाव करने और कार्यवाई करने में असफल साबित हुई हैं.

वहीं इस रिपोर्ट में ये भी बताया गया है कि साल 2017 में पाकिस्तान की सुरक्षा एजेंसियों ने 524 आतंकियों को मार गिराया था जबकि 2018 में केवल 120 आतंकी ही पाकिस्तान की सुरक्षा एजेंसियों के हाथ लग पाए. रिपोर्ट में इस बात का भी खुलासा हुआ है कि ये आतंकी हमले ज्यादातर पाकिस्तान के बलूचिस्तान और खैबर-पख्तूनख्वा प्रांत ने झेले हैं.

इस तरीके से पाकिस्तान भारत में भेजता है खूंखार आतंकी, छापेमारी में हुआ खुलासा

इतना ही नहीं साल 2017 की तुलना में साल 2018 में बलूचिस्तान में आतंकी हमलों की तादात बढ़ गई. रिपोर्ट के मुताबिक पूरे पाकिस्तान में तकरीबन 171 हमलों को तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान (टीटीपी) ने ही करवाया था. वहीं पाकिस्तान के राष्ट्रवादी विरोधी संगठनों ने मुल्क में एक साल में कुल 80 हमलों करवाए.

कर्ज में डूबे पाकिस्तान को एक और झटका, 'विजय माल्या' ने लगाई 1.36 बिलियन की चपत

First published: 8 January 2019, 15:03 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी