Home » इंटरनेशनल » Thailand Coach Ekkapol Chantawongs Writes To All Parents Handwirtten note from Tham Luang Cave
 

थाईलैंड : गुफा में फंसे कोच ने बच्चों के मां-बाप के नाम लिखा खत, कही ये मार्मिक बात

कैच ब्यूरो | Updated on: 7 July 2018, 13:09 IST

थाईलैंड की गुफा में पिछले दो सप्ताह से युवा फुटबॉल टीम के 12 खिलाड़ी और उनके 25 वर्षीय कोच फंसे हुए हैं. इसी बीच बच्चों के कोच ईकापोल चांतावोंग ने बच्चों के मां-बाप के नाम एक खत भेजा है. इस खथ में कोच चांतापोल ने बच्चों के मां-बाप से माफी मांगी है. ये खत शनिवार को थाई नौसेना ने जारी किया.

बता दें कि भारी बारिश के पूर्वानुमान, गुफा में बढ़ते पानी के स्तर और ऑक्सीजन की कमी के बावजूद थाईलैंस सरकार बच्चों और उनके कोच को गुफा से सुरक्षित निकालने की हर संभव कोशिश कर रही है. गुफा में फंसे बच्चों की उम्र 11 से 16 साल के बीच है. बीते सोमवार को एक गोताखोर ने उन्हें गुफा में खोज लिया था, लेकिन उन्हें अभी निकाला नहीं जा सका.

शुक्रवार को बच्चों के कोच ईकापोल चांतावोंग ने एक खत लिखकर एक गोताखोर को दिया. जिसे शनिवार को थाई नेवी सील ने फेसबुक पर शेयर किया. इस खत में बच्चों के कोच ईकापोल चांतावोंग ने हर किसी के दिल को झकझोर देने वाली बारे लिखी हैं.

नेवी द्वारा जारी किए खत में कोच ईकापोल ने लिखा है, “सभी माता-पिता के लिए, सभी बच्चे अभी ठीक हैं. मैं बच्चों की बहुत अच्छी तरह देखभाल करने का आपसे वादा करता हूं. मैं सभी समर्थन करने वालों का धन्यवाद और मां-बाप से माफी मांगता हूं.”

इस खत में टीम के अन्य सदस्यों ने भी अपने परिवारों को संदेश लिखकर भेजा है. टीम के एक अन्य सदस्य ने लिखा है, “मैं दो सप्ताह से घर से दूर हूं, लेकिन मैं घर वापस आऊंगा और सामान बेचने में आपकी मदद करूंगा.” बता दें कि टीम के किसी सदस्य का परिवार दुकान चलाता है.

एक अन्य नोट में 'डोम' ने लिखा है, “वह ठीक है लेकिन यहां मौसम थोड़ा खराब है.”

थाई अधिकारियों के मुताबिक बच्चों को तैरने की मूल बातें बताई जा रही है कि घुमावदार मार्गों के बीच से कैसे निकला जाए. इसके लिए बच्चों को प्रशिक्षण दिया जा रहा है. बता दें कि बिना तैरना सीखे बच्चों को गुफा से बारह निकालना मुश्किल है. लेकिन शुक्रवार को अधिकारियोंं ने बताया कि अभी हम बच्चों को निकालने में असमर्थ हैं.

बच्चों के कोच का खत थाई सोशल मीडिया में आने के बाद लोगों अलग-अलग प्रतिक्रियाएं दी हैं. किसी ने ईकापोल की तारीफ की है तो किसी ने उन्हें इस घटना के लिए जिम्मेदार ठहराया है. कई लोगों ने कोच की प्रशंसा की है. वहीं कुछ यूजर्स ने मानसून के मौसम में बच्चों को गुफा के अंदर ले जाने पर उनकी आलोचना की है.

बता दें कि 23 जून को जूनियर फुटबॉल टीम का एक दल प्रशिक्षण के बाद अपने कोच के साथ गुफा में घूमने गया था, लेकिन अचानक तेज बारिश होने लगी. जिससे टीम के 12 सदस्य और उनके कोच गुफा में फंस गए. उसके बाद से फुटबॉल टीम के बच्चों और उनके कोच को सुरक्षित बाहर निकालने की तमाम कोशिशें की जा रही हैं. लेकिन बारिश के चलते बचाव अभियान में बहुत परेशानियां आ रही हैं.

ये भी पढ़ें- थाईलैंड: गुफा में फंसे खिलाडियों को ऑक्सीजन पहुंचाने गए कमांडो की ऑक्सीजन की कमी से मौत

First published: 7 July 2018, 12:00 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी