Home » इंटरनेशनल » Seven Star Hotel: There isn't any Seven Star hotel in the world, Maximum Five Stars allowed
 

दुनिया में नहीं है कोई भी 'सेवेन स्टार होटल'

अमित कुमार बाजपेयी | Updated on: 8 July 2016, 12:41 IST

दुनिया में पर्यटन और होटल एक दूसरे का पर्याय बन चुके हैं. होटलों की तादाद वहां के पर्यटकों की संख्या की ओर इशारा करती है तो दूसरी तरफ पर्यटकों की बढ़ती संख्या होटलों को बढ़ाती है. पर्यटकों की संख्या और उनके क्लास के मुताबिक ही उस स्थान पर होटलों की कैटेगरी तय होती है. मसलन वन स्टार, फोर स्टार, फाइव स्टार या... सेवेन स्टार.

जाहिर है आपने भी देश और दुनिया के तमाम होटलों के बारे में सुना होगा और उनकी स्टार रैंकिंग मसलन फोर-फाइव या सेवेन स्टार के बारे में भी जाना होगा. लेकिन शायद यह सुनकर आपको हैरानी होगी कि दुनिया में कोई भी 'सेवेन स्टार' होटल नहीं है. इतना ही नहीं होटलों को रैंकिंग देने वाली संस्थाएं भी 'सेवेन स्टार' नहीं देतीं.

द ताज पैलेस, मुंबई (द ताज पैलेस)

पहले बात हिंदुस्तान के होटलों की

चलिए पहले भारत की ही बात कर लेते हैं. यूं तो हमारे देश में भी तमाम होटल खुद को 'सेवेन स्टार' होने के दावे का प्रचार करते हैं, लेकिन कभी गौर करिये तो पता चलेगा कि देश का कोई भी होटल आधिकारिक तौर पर खुद को 'सेवेन स्टार' नहीं लिखता. देश क्या दुनिया का भी कोई होटल खुद को 'सेवेन स्टार' नहीं बतलाता.

देश की केंद्रीय पर्यटन मंत्रालय की आधिकारिक वेबसाइट टूरिज्म डॉट जीओवी डॉट इन में ही होटलों की श्रेणी के बारे में स्पष्ट तौर पर लिखा हुआ है. इसमें होटल टैब के आगे लिखा है, "होटल पर्यटन उत्‍पाद का एक महत्‍वपूर्ण घटक है. वे अपनी दी गई सुविधाओं और सेवाओं के स्‍तर द्वारा पर्यटन के समग्र अनुभव में योगदान देते हैं. पर्यटन मंत्रालय ने चालू होटलों के लिए एक स्‍वैच्‍छिक योजना बनाई है जो निम्‍नलिखित श्रेणियों के लिए लागू होगी: 

सितारा श्रेणी होटल: 5 सितारा डीलक्‍स, 5 सितारा, 4 सितारा, 3 सितारा, 2 सितारा एवं 1 सितारा.

हैरिटेज श्रेणी होटल : हैरिटेज ग्रांड, हैरिटेज क्‍लासिक एवं हैरिटेज बेसिक."

द ओबेरॉय उदयविलास, उदयपुर (द ओबेरॉय उदयविलास, उदयपुर)

इसका सीधा सा मतलब निकलता है कि देश में कोई भी होटल 5 स्टार डीलक्स से ऊपर की श्रेणी का नहीं हो सकता. पर्यटन मंत्रालय द्वारा जारी दिशानिर्देशों के मुताबिक अगर कोई होटल इस संबंध में झूठा दावा करता है या गलत प्रचार करता है तो उस पर दो वर्षों के लिए पाबंदी लगाई जा सकती है.

अब बात दुनिया के होटलों की

अब दुनिया भर के होटलों की बात करते हैं. 1998 में दुबई में खुले 'बुर्ज अल अरब' होटल का दुनिया भर के सबसे पहले 'सेवेन स्टार' होटल के रूप में प्रचार किया गया. इसके हर कमरे के लिए एक बटलर है. लेकिन होटल संचालक का कहना है कि एक अज्ञात ब्रिटिश पत्रकार की प्रेस ट्रिप के दौरान यह शब्द उछला. 

हालांकि उन्होंने कभी न तो आधिकारिक रूप से 'सेवेन स्टार' शब्द का इस्तेमाल किया और न ही इसका विज्ञापन दिया. इसी तरह 2005 में खुले 'अमीरात पैलेस होटल' को कभी 'सेवेन स्टार' बताया गया था, लेकिन होटल ने कभी भी इसका इस्तेमाल नहीं किया और खुद को 'फाइव स्टार' ही बताया.

द टाउन हाउस गैलेरिया, इटली (द टाउन हाउस गैलेरिया, इटली)

इसके बाद 2007 में खुले इटली स्थित मिलान के 'द टाउन हाउस गैलेरिया' को भी एसजीएस इटली द्वारा 'सेवेन स्टार' मिलने का दावा किया गया. हालांकि गैर आधिकारिक पर्यटन एजेंसी एसजीएस इटली के पास जनरल होटल्स स्टार्स श्रेणी में केवल 'फाइव स्टार' ही थे. फिलहाल यह होटल भी खुद को फाइव स्टार लग्जरी होटल ही बताया जाता है.

यह इतना बताने के लिए काफी है कि दुनिया का कोई भी होटल 'सेवेन स्टार' तो क्या 'सिक्स स्टार' भी नहीं है. अगली बार से कहीं भी जाएं तो ध्यान रखें कि 'फाइव स्टार' होटल से ज्यादा कुछ भी नहीं मिल सकता.

First published: 8 July 2016, 12:41 IST
 
अमित कुमार बाजपेयी @amit_bajpai2000

पत्रकारिता में एक दशक से ज्यादा का अनुभव. ऑनलाइन और ऑफलाइन कारोबार, गैज़ेट वर्ल्ड, डिजिटल टेक्नोलॉजी, ऑटोमोबाइल, एजुकेशन पर पैनी नज़र रखते हैं. ग्रेटर नोएडा में हुई फार्मूला वन रेसिंग को लगातार दो साल कवर किया. एक्सपो मार्ट की शुरुआत से लेकर वहां होने वाली अंतरराष्ट्रीय प्रदर्शनियों-संगोष्ठियों की रिपोर्टिंग.

अगली कहानी