Home » इंटरनेशनल » This Startup Company Has 700 Employees But Do Not Have Any Office
 

इस 700 कर्मचारियों वाली कंपनी का नहीं है कोई ऑफिस, सब अपनी मर्जी से करते हैं काम

कैच ब्यूरो | Updated on: 3 October 2018, 16:36 IST

दुनियाभर की हर कंपनी का अपना ऑफिस होता है, यहां कर्मचारी कंपनी की पॉलिसी के मुताबिक काम करते हैं. लेकिन एक ऐसी भी कंपनी है जिसका कोई ऑफिस नहीं है साथ ही इस कंपनी के कर्मचारी भी अपनी मर्जी से काम करते हैं. उनपर काम करने की कोई पाबंदी नहीं है. इस कंपनी में 700 कर्मचारी काम करते हैं. ये एक टेक्नोलॉजी स्टार्टअप कंपनी है जिसका नाम इनविजन है.

बता दें कि इनविजन के दुनियाभर में 700 कर्मचारी हैं. लेकिन इसका कहीं कोई दफ्तर नहीं है. साल 2011 में सीईओ क्लार्क वॉलबर्ग ने जब कंपनी खोली, तो उन्हें पता था कि इस व्यवसाय में बहुत कॉप्टनीशन का सामना करना पड़ेगा. न्यूयॉर्क जैसे शहर में जगह खरीदना और किराए पर लेना दोनों ही काफी महंगा था. कंपनी की शुरुआत में इतनी कमाई नहीं थी कि वह कोई जगह ले पाते.

इसलिए उन्होंने सोचा ऑफिस के लिए जगह लेना फिजूल खर्च है और इस सोच के साथ उन्होंने कंपनी को लैपटॉप के इर्द गिर्द ही रखा. बता दें कि इनविजन सॉफ्टवेयर बनाने की कंपनी है और इसके लिए एक लैपटॉप होना ज्यादा जरूरी है न कि जगह. आज कंपनी की शुरुआत हुए सात साल बीत चुके हैं और इसके 700 कर्मचारी भी हैं बावजूद इसके कंपनी का कोई आधिकारिक हेडक्वार्टर नहीं है.

यही नहीं कंपनी के सभी कर्मचारी अलग-अलग जगहों से काम करते हैं, इसे रिमोट मॉडल नाम दिया गया है. कंपनी के पते के नाम पर है सिर्फ आईपी एड्रेस. ये कर्मचारी इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया, अर्जेंटीना जैसे अलग-अलग टाइम जोन वाले देशों में रहते हैं. इसके बावजूद सबके काम करने का समय सुबह 10 बजे से शाम 6 बजे तक होता है.

कंपनी के चीफ पीपुल ऑफिसर मार्क फ्रीन अपनी कंपनी और काम करने के तरीके के बारे में बताते हैं "हम लोगों को काम करने की पूरी आजादी देते हैं. हमें नतीजों से मतलब है. इस बात से कोई लेना-देना नहीं कि आपका आईपी एड्रेस कहां का है.

फ्रीन बताते हैं, "जब हम लोगों को इनविजन की रिमोट वर्क पॉलिसी के बारे में बताते हैं तो उन्हें विश्वास ही नहीं होता. वे पूछते हैं कि लोग काम ठीक से कर रहे हैं या नहीं, यह कैसे सुनिश्चित होता है? मेरा जवाब होता है- इस बात की क्या गारंटी है कि रोजाना ऑफिस आने के बाद लोग ज्यादा काम करेंगे.

ये भी पढ़ें- नवजात बेटी को मां ने पांचवीं मंजिल से फेंका तो केले के पेड़ ने ऐसे दिया सहारा और...

First published: 3 October 2018, 16:36 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी