Home » इंटरनेशनल » Toilet Paper purchased for 12 year by mistake in Germany
 

टॉयलेट पेपर खरीदते वक्त एक शख्स से हो गई ये गलती, 12 साल तक झेलनी पड़ी सजा, जानिए कैसे

कैच ब्यूरो | Updated on: 17 March 2019, 11:12 IST

अगर आप अपने इस्तेमाल के लिए टॉयलेट पेपर खरीदें तो कितने पेपर खरीदना पसंद करेंगे? दो-चार या ज्यादा से ज्यादा दस. उससे अधिक खरीदने की गलती आप बिल्कुल नहीं करेंगे. दरअसल, जर्मनी के शहर फुचस्तल में काउंसिल ने इतने टॉयलेट पेपर खरीद लिया जिसका स्टॉक 12 साल बाद खत्म हुआ है. काउंसिल ने इन टॉयलेट पेपर्स को साल 2006में खरीदा था. जो अब खत्म हुआ है. टॉयलेट पेपर के इस स्टॉक को काउंसिल ने गलती से खरीद लिया था. जिसका उद्देश्य सिर्फ पैसों की बचत करना था.

मामला जर्मनी के ब्रैवेरिया प्रांत के फुचस्तल शहर का है. जहां काउंसिल ने साल 2006 में गलती से दो ट्रक टॉयलेट पेपर का ऑर्डर दे दिया था, लेकिन, जब पहला ट्रक टॉयलेट पेपर लेकर पहुंचा तब प्रशासन को अपनी गलती का एहसास हुआ. उसके बाद उन्होंने तुरंत दूूसरे ट्रक का ऑर्डर कैंसिल कर दिया. बता दें कि इस शहर में सिर्फ चार हजार लोग रहते हैं और इसके हिसाब से ऑर्डर काफी ज्यादा था.

 

हालांकि, दूसरा ऑर्डर रद्द करने के बाद भी उनके पास इतनी बड़ी मात्रा में टॉयलेट पेपर मुसीबत बन गया. प्रशासन की मुसीबतें तब और बढ़ गईं, जब स्थानीय निवासियों ने इस टॉयलेट पेपर को घटिया क्वालिटी का बताकर इस्तेमाल करने से मना कर दिया. लोगों का कहना था कि यह पीले पड़ने लगे थे.

इस देश में साइकिल से ऑफिस आने वालों को मिलता है पैसा, हर किलोमीटर के मिलते हैं 16 रुपये

यही नहीं टॉयलेट पेपर का स्टॉक इतना बड़ा था कि प्रशासन को उसे रखने के लिए काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ा. उन्हें कई सार्वजनिक इमारतों और गोदामों में रखवाया गया. साथ ही सभी स्कूलों, फायर हाउस और हॉन के अलमारियों में भी इन्हें रखवाना पड़ा. प्रशासन ने चार लोगों की एक टीम का गठन किया, जो घर-घर जाकर इन टॉयलेट पेपर का वितरण करें. हालांकि, इस स्टॉक से शहर लोगों ने काफी पैसे बचाए.

डाकिया हो गया परेशान जब कहीं नहीं मिले हनुमान और भोलेनाथ, जानिए क्या है पूरा माजरा

First published: 17 March 2019, 11:23 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी