Home » इंटरनेशनल » Trump blames india china for pollution says us has the cleanest climate
 

ट्रंप ने प्रदूषण को लेकर भारत, चीन और रूस पर साधा निशाना, कहा- नहीं समझते जिम्मेदारी

कैच ब्यूरो | Updated on: 6 June 2019, 10:11 IST

विश्व पर्यावरण दिवस के मौके पर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने प्रदूषण का जिम्मेदार भारत, चीन और रूस को ठहराया. डोनाल्ड ट्रंप का ये बयान विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के आंकड़े के बाद आया.

WHO के आंकड़ों के मुताबिक, बढ़ते प्रदूषण का सबसे अधिक जिम्मेदार भारत, चीन और रुस है. अमेरिका में इन देशों की तुलना में वायु प्रदूषण काफी कम है. वहीं, कार्बन उत्सर्जन की बात करें, तो अमेरिका शीर्ष देशों में से एक है.

विश्व पर्यावरण दिवस के मौके पर ट्रंप ने कहा, "चीन, भारत, रूस और कई अन्य देशों की हवा साफ नहीं है, प्रदूषण और स्वच्छता के लिहाज से बहुत अच्छा पानी नहीं है. वे अपनी जिम्मेदारी नहीं निभाते हैं."

ट्रंप ने कहा, "प्रिंस चार्ल्स ने उनके अंदर जलवायु परिवर्तन से लड़ने की भावना जगाई थी और वह भी एक ऐसी दुनिया चाहते हैं जो आने वाली पीढ़ियों के लिए अच्छी हो."

मालूम हो कि अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ने पेरिस जलवायु करार से अमेरिका को बाहर निकाल लिया है. हालांकि, अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा, "अपनी तीन दिवसीय राजकीय यात्रा के दौरान सोमवार को जब मैने बकिंघम पैलेस में प्रिंस चार्ल्स के साथ चाय पर मुलाकात की तो मैं पर्यावरण के लिए उनकी प्रतिबद्धता से प्रभावित हुआ था."

ट्रंप ने बुधवार को एक इंटरव्यू में कहा कि वे चार्ल्स से मुलाकात के दौरान उनसे काफी प्रभावित हुए. उन्होंने चार्ल्स से मुलाकात के दौरान ज्यादातर जलवायु को लेकर ही बातचीत की. ट्रंप ने कहा, "वे एक ऐसी दुनिया चाहते हैं जो आने वाली पीढ़ियों के लिए अच्छी हो, मैं भी यहीं चाहता हूं."

रोहडियम ग्रुप ने एक व्यापक रिपोर्ट जनवरी में जारी की थी, जिसमें बताया गया था कि 2018 में अमेरिका का कार्बन उत्सर्जन 3.4% बढ़ गया है. ये पिछले 8 सालों में सबसे अधिक वृद्धि थी.

पाकिस्तान ने ईद के मौके भारत को दिया बड़ा तोहफा, कहा- जनाब आपको जुबान दी थी

ट्रंप ने बुधवार को एक इंटरव्यू में कहा कि वे चार्ल्स से मुलाकात के दौरान उनसे काफी प्रभावित हुए. उन्होंने चार्ल्स से मुलाकात के दौरान ज्यादातर जलवायु को लेकर ही बातचीत की. ट्रंप ने कहा, "वे एक ऐसी दुनिया चाहते हैं जो आने वाली पीढ़ियों के लिए अच्छी हो, मैं भी यहीं चाहता हूं."

रोहडियम ग्रुप ने एक व्यापक रिपोर्ट जनवरी में जारी की थी, जिसमें बताया गया था कि 2018 में अमेरिका का कार्बन उत्सर्जन 3.4% बढ़ गया है. ये पिछले 8 सालों में सबसे अधिक वृद्धि थी.

भारत का ये शहर विश्वभर में सबसे ज्यादा झेल रहा ट्रैफिक की मार, चौथे स्थान पर देश की राजधानी दिल्ली

First published: 6 June 2019, 10:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी