Home » इंटरनेशनल » UN has concluded that Julian Assange has been unlawfully detained
 

जूलियन असांज को गैरकानूनी तौर पर हिरासत में रखा गया: संयुक्त राष्ट्र

कैच ब्यूरो | Updated on: 5 February 2016, 9:01 IST

संयुक्त राष्ट्र के पैनल ने कहा है कि विकीलीक्स के संस्थापक जूलियन असांज को 'गैरकानूनी तौर पर हिरासत में रखा गया है.' असांज जून 2012 से लंदन स्थित इक्‍वाडोर दूतावास में शरण लिए हुए हैं.

साल 2014 में असांज ने संयुक्त राष्ट्र के वर्किंग ग्रुप के सामने स्‍वीडन और ब्रिटेन के खिलाफ मनमानी हिरासत का केस दर्ज करवाया था. असांज ने शिकायत की थी कि उन्हें दूतावास में कैद किया जाना गैरकानूनी है.

जूलियन असांज ने गुरुवार को कहा कि अगर संयुक्त राष्ट्र का पैनल उनके खिलाफ फैसला देगा तो वो खुद को ब्रितानी पुलिस के हवाले कर देंगे.

पढ़ें: यूएन ने प्रतिकूल फैसला दिया तो जूलियन असांज देंगे गिरफ्तारी

साल 2010 में एक महिला ने असांज पर बलात्कार का आरोप लगाया था. वे इन आरोपों को झूठा बताते हैं. आरोप लगने के बाद से ही उन्‍होंने पूर्वी लंदन में स्थित इक्‍वाडोर दूतावास में शरण ले रखी है.

असांज ने गुरुवार ट्वीट करके कहा था, 'अगर शुक्रवार को यूएन यह घोषणा करता है कि मैं ब्रिटेन और स्‍वीडन के खिलाफ अपना केस हार चुका हूं तो मैं दोपहर में दूतावास खाली कर दूंगा. मैं अपने आप को ब्रितानी पुलिस के हवाले भी कर दूंगा क्‍योंकि अब आगे अपील करने का कोई मतलब नहीं रह जाएगा.'

विकीलीक्स के ट्विटर हैंडल पर पोस्ट किए गए बयान में उन्होंने कहा था, 'अगर मेरा पक्ष सही और सरकारी पक्ष गलत पाया जाता है  तो मेरा पासपोर्ट तुरंत लौटा दिया जाना चाहिए और फिर मुझे गिरफ्तार करने की किसी भी कोशिश पर रोक लग जानी चाहिए.'

असांज के अनुसार गिरफ्तारी के बाद उन्‍हें सेना और कूटनीति से जुड़े हुए दस्तावेज रिलीज करने के आरोप में अमेरिका को प्रत्‍यार्पित किया जा सकता है.

First published: 5 February 2016, 9:01 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी