Home » इंटरनेशनल » UN reports: Army rape women as payment in South Sudan
 

सूडान में सेना को मिलती है वेतन के बदले रेप की छूट

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 February 2017, 1:52 IST

संयुक्त राष्ट्र संघ (यूएन) की ओर से जारी एक रिपोर्ट में सनसनीखेज दावा किया गया है कि सूडान में सेना के जवानों को वेतन के बदले महिलाओं से रेप करने की छूट दी जाती है.

यूएन की इस रिपोर्ट में बताया गया है कि दक्षिणी सूडान के यूनिटी राज्य में पिछले साल 1300 महिलाओं का रेप किया गया. इसके अलावा रिपोर्ट में यह भी बताया गया है कि सेना आम लोगों की हत्याएं करती है, उन्हें जिंदा जला देती है. यह युद्ध अपराध के बराबर है.

हालांकि यूएन की इस रिपोर्ट का दक्षिणी सूडान की सरकार ने खंडन किया है. राष्ट्रपति सल्वा कीर के प्रवक्ता ने कहा कि वे नियमों के अनुसार काम करते हैं.

संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट में बताया गया है कि दक्षिणी सूडान में सरकार ने सेना के साथ समझौते में कहा है कि वे जो कर सकते हैं करें, जो ले जा सकते हैं ले जाएं. इसी समझौते के तहत सिपाही लड़कियों और महिलाओं को साथ ले जाते हैं.

संयुक्त राष्ट्र के मानवाधिकार आयुक्त जैद राद अल हुसैन ने इस मामले में बताया कि दक्षिणी सूडान में बड़े पैमाने पर यौन हिंसा होती है. यह दुनिया में सबसे जघन्य मानवाधिकारों के हनन में शामिल है.

यूएन रिपोर्ट के अलावा एमनेस्टी इंटरनेशनल की रिपोर्ट में भी बताया गया है कि दक्षिणी सूडान में 60 से ज्यादा पुरुषों को एक कंटेनर में डालकर दम घोंट दिया गया. इतना ही नहीं आम लोगों को टुकड़ों में काट दिया जाता है.

गौरतलब है कि साल 2013 से ही दक्षिणी सूडान में गृहयुद्ध चल रहा है. राष्ट्रपति कीर द्वारा उपराष्ट्रपति रीक माशर को पद से हटाया और उपराष्ट्रपति पर तख्तापलट का आरोप भी लगाया.

वहीं माशर ने इन आरोपों से इनकार किया लेकिन उन्होंने सरकार से लड़ने के लिए एक विद्रोही सेना बना कर गृहयुद्ध छेड़ दिया. दक्षिणी सूडान में तब से जारी इस गृह युद्ध में दोनों गुटों के बीच हिंसक संघर्ष में लगभग दस हजार लोगों के मारे जाने की आशंका है.

First published: 12 March 2016, 6:37 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी