Home » इंटरनेशनल » UN says, total number of rohingya refugees is 7 lac in Bangladesh
 

बंटवारे जैसा पलायन: बांग्लादेश में रोहिंग्या शरणार्थियों की संख्या हुई 7 लाख

कैच ब्यूरो | Updated on: 28 September 2017, 16:44 IST

संयुक्त राष्ट्र के प्रवक्ता स्टीफन दुजारिक ने कहा कि म्यांमार के राखिने प्रांत में 25 अगस्त को भड़की हिंसा के बाद पलायन कर बांग्लादेश पहुंचे रोहिंग्या शरणार्थियों की संख्या 4 लाख 80 हजार तक पहुंच गई है और इस तरह बांग्लादेश में मौजूद रोहिंग्या शरणार्थियों की कुल संख्या सात लाख के ऊपर हो गई है.

मानवीय मामलों के समन्वय कार्यालय (ओसीएचए) के मुताबिक मुस्लिम जातीय अल्पसंख्यक समूह 'रोहिंग्या' को म्यांमार 'म्यांमार नागरिक कानून-1982' के तहत अपना नागरिक नहीं मानता है. म्यांमार सरकार इन लोगों को बांग्लादेश से आए अवैध प्रवासी मानता है. रोहिंग्या आतंकियों की ओर से 25 अगस्त को म्यांमार सेना के विरुद्ध किए गए हमले के बाद फैली हिंसा में लाखों रोहिंग्या को बांग्लादेश पलायन के लिए मजबूर होना पड़ा था.

दुजारिक ने बताया, "बांग्लादेश प्रशासन की अगुवाई में बनाई गई प्रतिक्रिया योजना के तहत संयुक्त राष्ट्र की शरणार्थी एजेंसी 'यूएनएचसीआर' की तरफ से एक मालवाहक विमान करीब 100 टन आवश्यक सामान लेकर मंगलवार को ढाका पहुंचा है." उन्होंने बताया कि दो और सहायता विमान सामानों के साथ ढाका पहुंचने वाले हैं.

प्रवक्ता ने कहा, "जमीनी स्तर पर सारे प्रयास करने के बावजूद, बड़ी संख्या में रोहिंग्या के पहुंचने से उनके लिए बंदोबस्त करने की क्षमता कम पड़ गई है. इनमें से कई, जो अभी वहां पहुंचे हैं, काफी तनाव में हैं." उन्होंने बताया कि हाल-फिलहाल में पहुंचे रोहिंग्या शरणार्थियों, खासकर महिलाओं और बच्चों ने अधिकारियों को बताया है कि 25 अगस्त को उत्तरी राखिने प्रांत में फैली हिंसा के बाद उपद्रवियों ने उनके घर जला दिए, जिसके बाद उन्हें यहां आने पर मजूबर होना पड़ा.

दुजारिक ने कहा कि विश्व खाद्य कार्यक्रम ने 4 लाख 60 हजार लोगों को अगले छह महीनों के लिए हर दो सप्ताह में 25 किलोग्राम चावल देने के लिए पंजीकृत किया है. दो लाख लोगों को आपात सहायता के तहत हाई एनर्जी वाले बिस्कुट का वितरण किया गया है.

First published: 28 September 2017, 16:44 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी