Home » इंटरनेशनल » US drops mother of all bombs: The bomb targeted tunnels used by ISIS fighters, target area bordered Pakistan
 

ISIS पर अमेरिका का सबसे बड़ा अटैक, 10 हज़ार किलो का 'Mother of all Bombs' फेंका

कैच ब्यूरो | Updated on: 14 April 2017, 10:39 IST
(फाइल फोटो)

अफगानिस्तान में आतंकी संगठन आईएसआईएस (इस्लामिक स्टेट) के ठिकाने पर अमेरिका ने अब तक का सबसे बड़ा हमला किया है. पूर्वी अफगानिस्तान के नंगरहार में अमेरिका ने सबसे बड़ा 10 हजार किलो का गैर परमाणु बम गिराया है. इसे मदर ऑफ ऑल बॉम्ब यानी एमओएबी के नाम से भी जाना जाता है. 

GBU-43 नाम का ये नॉन न्यूक्लियर बम तकरीबन 21,000 पाउंड का है. पाकिस्तान बॉर्डर के पास अफगानिस्तान के नंगरहार में आईएसआईएस की सुरंगों को निशाना बनाते हुए ये हमला किया गया. पाकिस्तान सीमा से ये जगह करीब 60 किलोमीटर दूर है.

अमेरिकी रक्षा विभाग यानी पेंटागन का कहना है, "स्थानीय समय के अनुसार शाम 7 बजकर 32 मिनट पर गिराए गए इस सबसे बड़े गैर परमाणु बम के जरिये उन गुफाओं को निशाना बनाया गया, जहां आईएस के आतंकियों ने पनाह ले रखी थी."

 

2003 में अमेरिका ने किया था परीक्षण 

मार्च 2003 में इराक युद्ध शुरू होने से पहले अमेरिका ने जीपीएस से ऑपरेटेड इस बम का परीक्षण किया था. व्हाइट हाउस के प्रवक्ता सॉन स्पाइसर ने हमले के बाद कहा, "'हमने आईएसआईएस लड़ाकों द्वारा इस्तेमाल की जा रही गुफाओं और सुरंगों को निशाना बनाया. आम नागरिकों को कम से कम नुकसान हो, यह सुनिश्चित करने के लिए इस हमले से पहले हमने सभी सुरक्षात्मक उपाय किए थे."

अमेरिकी रक्षा विभाग पेंटागन के प्रवक्ता एडम स्टंप ने बताया, "आतंकियों के खिलाफ लड़ाई में पहली बार इस तरह के बम का इस्तेमाल किया गया है. अमेरिकी फायटर जेट MC-130 के जरिये नंगरहार में आंतकियों की गुफाओं पर यह बम गिराया गया." हमले में जानमाल के नुकसान के बारे में अभी कोई जानकारी नहीं मिल पाई है.  

ट्रंप को गर्व, करजई ने की निंदा 

मदर ऑफ ऑल बॉम्ब 'GBU-43' को अपने इलाके में गिराए जाने पर अफगानिस्तान ने तीखी प्रतिक्रिया दी है. राष्ट्रपति हामिद करजई ने कहा, "मैं अमेरिकी सेना की ओर से घातक गैर परमाणु बम गिराए जाने की कड़े शब्दों में निंदा करता हूं. यह कार्रवाई आतंकवाद के खिलाफ नहीं, बल्कि अफगानिस्तानियों के खिलाफ और अमानवीय है."

जबकि हमले पर अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा, "हमें अपनी सेना पर बहुत-बहुत गर्व है. सेना को पूरी छूट दी गई. एक और कामयाब मिशन." 

ट्रंप ने पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा पर भी निशाना साधते हुए कहा, "हमने पिछले 8 हफ्तों में अपनी सेना को खुली छूट दी है. यही वजह है कि हमारी सेना लगातार कामयाब रही है. हमारी सेना ने पिछले 8 हफ्तों में काफी अच्छा काम किया है, जो शायद पिछले 8 साल में नहीं हो पाया था."

First published: 14 April 2017, 10:19 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी