Home » इंटरनेशनल » US economist Richard Thaler wins Nobel prize for economics, Praised Demonetisation of modi govt.
 

नोटबंदी का समर्थन करने वाले अर्थशास्त्री ने रघुराम राजन को पछाड़ कर जीता नोबेल अवाॅर्ड

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 October 2017, 11:53 IST

अमेरिका के अर्थशास्त्री रिचर्ड एच. थेलर को सोमवार को अर्थशास्त्र के लिए नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया. अल्फ्रेड नोबेल की स्मृति में आर्थिक विज्ञान में स्वेरिगेस रिक्सबैंक पुरस्कार 2017 के लिए 72 वर्षीय थेलर को 'व्यावहारिक अर्थशास्त्र में योगदान' के लिए प्रदान किया गया. थेलर उन अर्थशास्त्रियों में से है जिन्होंने मोदी सरकार के नोटबंदी के फैसले का स्वागत किया था.

 

गौरतलब है कि इस बार नोबेल पुरस्कार की रेस में पूर्व आरबीआई गवर्नर रघुराम राजन भी थे. जब नोटबंदी का ऐलान हुआ था, उस दौरान वह RBI गवर्नर थे. राजन ने नोटबंदी के फैसले का विरोध किया था. वहीं 8 नवंबर 2016 को पीएम मोदी ने जब देश में नोटबंदी का ऐलान किया था, तब रिचर्ड थेलर ने नोटबंदी का खुले तौर पर समर्थन किया था. थेलर ने इसे करप्शन के खिलाफ लड़ाई का एक पहला कदम बताया था. थेलर ने ट्वीट किया था कि यह वह नीति है जिसका मैंने लंबे समय से समर्थन किया है. कैशलेस की ओर ये पहला कदम है.

थेलर शिकागो विश्वविद्यालय में व्यवहार विज्ञान और अर्थशास्त्र के प्रोफेसर हैं. वे ग्लोबल बेस्ट-सेलर 'नज' के सह-लेखक हैं, जिसमें कई समाज की प्रमुख समस्याओं को निपटाने के लिए व्यावहारिक अर्थशास्त्र का उपयोग किया जाता है. थेलर के अत्यंत प्रभावशाली सिद्धांतों में 'मानसिक लेखांकन' है. यह ऐसी धारणा है जिसमें उपभोक्ता अपने दिमाग में लेखांकन कर अपने व्यक्तिगत वित्त को सरल बनाते हैं.

इस पुरस्कार की घोषणा के बाद थेलर ने कहा कि अर्थशास्त्र में उनका सबसे महत्वपूर्ण योगदान यह मान्यता थी कि मनुष्य आर्थिक एजेंट हैं और आर्थिक मॉडलों को इसमें शामिल करना है. नोबेल समिति ने अपने आधिकारिक बयान में कहा कि थालेर ने व्यक्तिगत निर्णय लेने के आर्थिक और मनोवैज्ञानिक विश्लेषण के बीच एक पुल बनाया है.

बयान में कहा गया कि सीमित तर्कसंगतता, सामाजिक प्राथमिकताओं और आत्म नियंत्रण में कमी के परिणामों का पता लगाने के उनके प्रयासों ने यह दिखाया कि इन लक्षणों का व्यवस्थित रूप से व्यक्तिगत निर्णयों, साथ ही बाजार के परिणामों पर भी असर पड़ता है.

थेलर 1945 में न्यू जर्सी में पैदा हुए. उन्होंने रोचेस्टर विश्वविद्यालय से पीएचडी किया. उन्हें नोबेल पुरस्कार के रूप में 90 लाख स्वीडीश क्रोना (8,50,000 पाउंड्स) मिलेंगे.  जब उनसे यह पूछा गया कि वे पुरस्कार में मिली राशि को कैसे खर्च करेंगे. उन्होंने कहा, "मैं इसे जितना संभव हो सके, उतने ही बेतरतीब ढंग से खर्च करने की कोशिश करूंगा."

First published: 10 October 2017, 11:53 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी