Home » इंटरनेशनल » us presidential elections 2016 controversial things Donald Trump Statements In hindi
 

विवादित अभियान से सबका साथ-सबका विकास तक डोनल्ड ट्रंप का सफ़रनामा

कैच ब्यूरो | Updated on: 9 November 2016, 13:39 IST

रिपब्लिकन पार्टी के राष्ट्रपति प्रत्याशी डोनाल्ड ट्रंप चुनाव जीत चुके हैं. उनकी प्रतिद्वंद्वी डेमोक्रेटिक पार्टी की हिलेरी क्लिंटन ने अपनी हार स्वीकार करते हुए ट्रंप को बधाई दे दी है. अपने धन्यवाद भाषण में डोनल्ड ट्रंप ने कहा है कि वो सबको साथ लेकर चलने की नीति पर काम करेंगे. उनका मंत्र दुनिया के साथ सहयोग का रहेगा न कि टकराव का. साथ ही उन्होंने हिलेरी क्लिंटन को भी बधाई दी. आपको बता दें यह चुनाव अमेरिका के इतिहास का सबसे विवादित चुनाव रहा है. यह सबसे पोलराइज़ चुनाव रहा. यह पहला चुनाव है जिसमें धार्मिक और नस्ली पहचान को बिना झिझक इस्तेमाल किया गया. इसकी एक बड़ी वजह ट्रंप के विवादित बयान भी रहें हैं. यहां हम उनके चुनाव अभियान के दौरान दिए गए कुछ विवादित बयानों को एक बार फिर से जानते हैं.

मुस्मिल विरोधी बयान:

ट्रंप के पूरे अभियान में इस्लाम का विरोध देखने को मिला. उन्होंने आईएसआईएस को समूल खत्म करने की घोषणा कई बार की. इन मुस्लिम विरोधी बयानों के चलते वे लगातार सुर्खियों में रहे. दिसंबर, 2015 में उन्होंने पहली बार कहा था कि अमेरिका में आतंकवादी हमले रोकने के लिए मुसलमानों के अमेरिका में प्रवेश पर रोक लगाना जरूरी. इसकी निंदा पूरी दुनिया में हुई थी.

महिलाओं पर की अश्लील टिप्पणियां:

चुनाव के ठीक पहले ट्रंप का वर्ष 2005 का एक ऑडियो सामने आया है जिसमें वह महिलाओं से यौन संबंध बनाने पर कई विवादित बातें कहते नजर आए. उन्होंने महिलाओं के बारे में कई अश्लील टिप्पणियां की थीं. ट्रंप की पत्नी मेलानिया ने महिलाओं को लेकर की गई पति की टिप्पणी को अस्वीकार्य और अपमानजनक करार दिया था. उन्होंने अमेरिकी जनता से ट्रंप को माफ कर देने की अपील भी की थी.

खुद ट्रंप ने भी इस बयान पर अमेरिका और महिलाओं से माफी मांगी थी.

सद्दाम हुसैन और गद्दाफी का समर्थन:

अक्टूबर, 2015 में ट्रंप ने यह कहकर विवाद पैदा कर दिया कि अगर अब भी इराक में सद्दाम हुसैन और लीबिया में कर्नल गद्दाफी का शासन होता तो दुनिया एक बेहतर जगह होती.

पोप पर ट्रंप का पलटवार:

फरवरी, 2016 में पोप फ्रांसिस ने कहा था कि ट्रंप अगर अमेरिका और मैक्सिको के बीच दीवार खड़ी करने की बात करते हैं तो इसका अर्थ यह है कि वह 'ईसाई' नहीं हैं. सीएनएन की रपट के अनुसार, 'पोप ने कैथलिक समुदाय से ट्रंप को वोट नहीं देने की अपील नहीं की थी. इसके बाद ट्रंप ने पोप पर पलटवार करते हुए कहा, 'अगर कभी इस्लामिक स्टेट ने वैटिकन पर हमला किया, जो कि सभी लोग जानते हैं कि आईएस की आखिरी ख्वाहिश है, तो मेरी बात मान लीजिए कि पोप उस वक्त बस यही एक इच्छा करेंगे कि काश ट्रंप अमेरिका का राष्ट्रपति होता.'

सैनिक हुमायूं खान की मां पर टिप्पणी:

इराक युद्ध में मारे गए सैनिक हुमायूं खान की मां पर टिप्पणी करना डॉनल्ड ट्रंप को भारी पड़ गया. सेना के दिवंगत कैप्टन हुमायूं खान के पिता, 66 वर्षीय खिज्र खान ने डेमोक्रेटिक पार्टी की उम्मीदवार हिलेरी क्लिंटन के पक्ष में एक भावुक अपील की थी. उन्होंने ट्रंप के मुस्लिम विरोधी टिप्पणियों के मद्देनजर कहा, 'जाइए, उन बहादुर देशभक्तों की कब्रों को देखिए, जिन्होंने अमेरिका की रक्षा करते हुए अपनी जान दे दी. वहां आप विविध धर्मों, नस्लों और लिंगों के शहीदों को पाएंगे. आपने कुछ भी त्याग और बलिदान नहीं किया है.'

इसके जवाब में ट्रंप ने कहा, 'मैंने बहुत त्याग और बहुत मेहनत की है.  मैंने हजारों रोजगार पैदा किए हैं, हजारों-लाखों नौकरियां और बड़े-बड़े आधारभूत ढांचे खड़े किए हैं इस देश के लिए. ये भी निश्चित तौर पर त्याग ही है.'

हिलेरी क्लिंटन को कहा बेशर्म:

अप्रैल में रिपिब्लकन पार्टी के उम्मीदवार चुने जाने के पाद ट्रंप ने कहा था कि हिलेरी को पांच प्रतिशत वोट भी मिले तो उसका कारण महिला होना है. उनके पास महिला होने के अलावा कोर्इ वजह नहीं है चुनाव में जीतने की. ट्रंप ने हिलेरी को बहस के दौरान बेशर्म कहा था. उन्होंने हिलेरी के पति बिल क्लिंटन पर लगे यौन उत्पीड़न के आरोपों और डेमोक्रेटिक प्रत्याशी की चुप्पी का उदाहरण देते हुए यह टिप्पणी की. 

आेबामा को बताया आतंक का संस्थापक:

आेबामा पर ट्रंप ने विवादित बयान देते हुए कहा था कि देश को एक गुड चीयर लीडर की जरूरत है, आेबामा बेहतर चीयर लीडर नहीं है. इतना ही नहीं उन्होंने अपनी चुनावी रैली में कहा था कि आेबामा ने आतंक को पैदा किया है वो है वो ISIS के संस्थापक हैं. 

गर्भपात पर बयान:

मेरे राष्ट्रपति चुने जाते ही गर्भपात का अधिकार खत्म हो जाएगा, क्योंकि मैं गर्भपात विरोधी सोच वाले जज को ही सुप्रीम कोर्ट में नियुक्त करूंगा. 

बच्चों को भी नहीं बख्शा:

अगस्त 2016 में एक रैली को संबोधित करने के दौरान एक बच्चा रोने लगा. उसे देख पहले तो ट्रंप ने कहा कि मैं बच्चों को बहुत प्यार करता हूं. लेकिन अपने इस बयान पर वो दो मिनट भी नहीं टिके आैर बोला मुझे बच्चे बिल्कुल भी नहीं पसंद, इस रोते हुए बच्चे को बाहर निकाल दो.

First published: 9 November 2016, 13:39 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी