Home » इंटरनेशनल » US Senator Chris Van Hollen claims - Indian government did not allow him to go to Kashmir
 

अमेरिकी सीनेटर का दावा- भारत सरकार ने उन्हें कश्मीर का दौरा करने की अनुमति नहीं दी

कैच ब्यूरो | Updated on: 5 October 2019, 13:10 IST

अमेरिका की डेमोक्रेटिक पार्टी के एक सदस्य और यूनाइटेड स्टेट्स सीनेटर क्रिस वान होलेन ने दावा किया है कि उन्हें भारत सरकार द्वारा कश्मीर जाने की अनुमति नहीं दी गई. इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार वह पहले अमेरिकी कांग्रेस प्रतिनिधि हैं जिन्हें कश्मीर जाने से रोका गया. 5 अगस्त को कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाने के बाद कई राजनीतिक नेताओं को हिरासत में लिया गया था और संचार नाकाबंदी लगा दी गई थी. हालांकि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने कश्मीर को लेकर भारत और पाकिस्तान से मध्यस्थता की पेशकश की थी.

वान होलेन हालही में नई दिल्ली में अधिकारियों और महत्वपूर्ण लोगों से मिले थे. रिपोर्ट के अनुसार उन्होंने कहा "मैं पहली बार कश्मीर का दौरा करना चाहता था, लेकिन भारत सरकार द्वारा अनुमति नहीं दी गई. हमने लगभग एक हफ्ते पहले सरकार से संपर्क किया था, लेकिन बताया गया कि यह वहां जाने का सही समय नहीं है." वान होलेन सीनेट में मैरीलैंड का प्रतिनिधित्व करते हैं. 

होलेन लगभग 50 कांग्रेस सदस्यों में से एक है, जिन्होंने कश्मीर को लेकर चिंता व्यक्त की है. द वाशिंगटन पोस्ट से उन्होंने कहा- ''अगर भारत सरकार के पास छिपाने के लिए कुछ नहीं है, तो उन्हें कश्मीर जाने वाले लोगों की चिंता नहीं करनी चाहिए और अपनी आंखों से स्थिति को देखना चाहिए." सितंबर में वान होलेन ने सीनेट में एक विनियोग विधेयक में संशोधन पेश किया था जिसमें कश्मीर में लगाए गए प्रतिबंधों का उल्लेख किया गया था.

इसमें कश्मीर में वर्तमान मानवीय संकट की चिंता के साथ साथ नरेंद्र मोदी सरकार से संचार नेटवर्क को बहाल करने और बंदियों को रिहा करने का आह्वान किया गया था. समिति की रिपोर्ट 26 सितंबर को डोनाल्ड ट्रम्प के करीबी वरिष्ठ सीनेटर और प्रमुख रिपब्लिकन पार्टी के नेता लिंडसे ग्राहम द्वारा प्रस्तुत की गई थी, उस वक्त प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अमेरिका में थे.

अमेरिकी सांसदों ने पहली बार कश्मीर पर उठाया ये बड़ा कदम : रिपोर्ट

First published: 5 October 2019, 13:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी