Home » इंटरनेशनल » us visa fraud case: 10 indians arrest along with 21
 

अमेरिका: फर्जी वीजा मामले में 10 भारतीय गिरफ्तार

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 February 2017, 1:51 IST

अमेरिका में वीजा जालसाजी को लेकर किए गए एक स्टिंग ऑपरेशन में दस भारतीय अमेरिकियों समेत 21 लोगों को गिरफ्तार किया गया है.

इस स्टिंग ऑपरेशन में वीजा घोटाले का पर्दाफाश करने के लिए अमेरिकी प्रशासन ने एक फर्जी यूनिवर्सिटी बनाई, जिसमें  एक हजार से अधिक विदेशियों को छात्र और कार्य वीजा की इजाजत दी गयी.

इसके बाद एक राष्ट्रव्यापी अभियान में अमेरिका के संघीय प्रशासन ने न्यूयार्क, न्यूजर्सी, वाशिंगटन और वर्जीनिया से 21 लोगों को इस धखाधड़ी के लिए गिरफ्तार किया.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक न्यूजर्सी के अटार्नी पाल जे फिशमैन ने इस मामले में बताया कि, 'पकड़े गये आरोपियों ने लोगों को फर्जी यूनिवर्सिटी में दाखिला दिलवा कर उनके लिए वीजा हासिल किया.

उनकी बदकिस्मती यह रही कि इस फर्जी यूनिवर्सिटी को होमलैंड सुरक्षा विभाग के एजेंटों द्वारा चलाया जा रहा था.' अटार्नी पाल ने बताया कि गिरफ्तार किए गए ज्यादातर लोग दलाल, भर्ती करने वाले कर्मचारी थे, जो गैरकानूनी और फर्जी तरीके से छात्रों के लिए वीजा का प्रबंध करते थे, जिन्होंने 26 देशों के एक हजार विदेशी नागरिकों के लिए छात्र वीजा और विदेशी कामगार वीजा हासिल किया.

अमेरिकी अधिकारियों ने इस सालभर चले स्टिंग आपरेशन में फंसे भारतीय छात्रों की संख्या नहीं बतायी है. अमेरिकी सरकार ने गिरफ्तार किए गए लोगों की नागरिकता का खुलासा नहीं किया है लेकिन प्रशासन द्वारा जारी किए गए नामों से संकेत मिलता है कि इनमें से दस या तो भारतीय हैं या भारतीय मूल के हैं.

इन नामों में ताजेश कोडाली, ज्योति पटेल, शाहजादी एम परवीन, नरेन्द्र सिंह पलाहा, संजीव सुखीजा, हरप्रीत सचदेव, अविनाश शंकर, कार्तिक निम्माला, गोवर्धन दयावरशेट्टी और सैयद कासिम अब्बास शामिल हैं.

इस पूरे मामले पर भारत के विदेश मंत्रालय के आधिकारिक का कहना है कि भारतीय दूतावास लगातार अमेरिका के संपर्क में है. भारतीय दूतावास ने अमेरिका से अपील की है कि वे किसी स्टूडेंट को निर्वासित या गिरफ्तार न करें.

First published: 6 April 2016, 7:43 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी