Home » इंटरनेशनल » US warning to China- If Taiwan takes forceful possession, American options will be tough
 

अमेरिका की चेतावनी- चीन कर रहा है ताइवान पर कब्जा करने की तैयारी, हमारे विकल्प भी हैं तैयार

कैच ब्यूरो | Updated on: 8 October 2020, 11:06 IST

 ताइवान (Taiwan) पर बलपूर्वक कब्ज़ा करने के चीन के किसी भी प्रयास के खिलाफ अमेरिका ने कड़ी चेतावनी जारी की है. अमेरिकी राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार रॉबर्ट ओ'ब्रायन ने लास वेगास में नेवादा यूनिवर्सिटी (University of Nevada in Las Vegas) में एक कार्यक्रम में कहा कि चीन बड़े पैमाने पर नौसैनिक निर्माण (naval buildup) में लगा हुआ है. उन्होंने कहा कि ऐसा संभवतः प्रथम विश्व युद्ध से पहले ब्रिटेन की शाही नौसेना के साथ प्रतिस्पर्धा करने के जर्मनी के प्रयास के बाद से कभी नहीं देखा गया. उन्होंने कहा "इसका मकसद पश्चिमी प्रशांत में कब्ज़ा कर ताइवान में एक शानदार लैंडिंग के लिए खुद को तैयार करना है."

ओ'ब्रायन ने चीन और ताइवान के बीच 100 मील (160 किलोमीटर) की दूरी और द्वीप पर लैंडिंग समुद्र तटों की ओर इशारा करते हुए कहा "इसके साथ समस्या यह है कि जलस्थलचर लैंडिंग (amphibious landings) बेहद कठिन हैं." अमेरिकी राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार ने कहा "यह एक आसान काम नहीं है और ताइवान पर चीन द्वारा किए गए हमले के जवाब में अमेरिका क्या करेगा, इस बारे में बहुत अभी अस्पष्टता है." उन्होंने कहा जब चीन, ताइवान पर कब्ज़ा करने का प्रयास करेगा तब यह देखना होगा कि अमेरिकी विकल्प क्या होंगे?


ओ'ब्रायन रणनीतिक अस्पष्टता की लंबे समय से चली आ रही अमेरिकी नीति का जिक्र कर रहे थे कि क्या वह ताइवान की रक्षा के लिए वह हस्तक्षेप करेंगे, जिसे चीन अपना प्रांत मानता है और जरूरत पड़ने पर नियंत्रण करने की बात करता है. अमेरिकी कानून है कि वह ताइवान को अपना बचाव करने के लिए साधन मुहैया कराए लेकिन यह स्पष्ट नहीं है कि क्या वह चीनी हमले की स्थिति में सैन्य रूप से हस्तक्षेप करेगा. ओ'ब्रायन की टिप्पणी ऐसे समय में आई है जब चीन ने ताइवान के पास सैन्य गतिविधियों में काफी तेजी से कदम बढ़ाए हैं और जब अमेरिकी-चीन संबंधों का मुद्दा 3 नवंबर होने वाले अमेरिकी चुनावों पर असर डालेंगे.

ओ'ब्रायन ने ताइवान को अपनी रक्षा पर अधिक खर्च करने और चीन पर आक्रमण करने के प्रयास के जोखिमों को स्पष्ट करने के लिए सैन्य सुधारों को करने के लिए कहा है. उन्होंने ताइवान से कहा '' आप अपनी जीडीपी का 1 फीसदी भी खर्च नहीं कर सकते हैं. ताइवान को सैन्य रूप से खुद को मजबूत करने की जरूरत है.''

ट्रंप का बड़ा फैसला- क्रिसमस तक अफगानिस्तान से वापस बुलाई जाएगी पूरी अमेरिकी फौज

 

First published: 8 October 2020, 10:57 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी