Home » इंटरनेशनल » USA: 10 police officers shot, 4 dead during protest in Dallas
 

अमेरिका: डलास में अश्वेतों की मौत पर हिंसा, 5 पुलिस अफसरों की हत्या

कैच ब्यूरो | Updated on: 8 July 2016, 13:12 IST
(ट्विटर डलास पुलिस)

अमेरिका के डलास में प्रदर्शन के दौरान फायरिंग में पांच पुलिस अधिकारियों की मौत हो गई है. गोलीबारी में 11 पुलिसकर्मी घायल बताए जा रहे हैं.

अश्वेतों के प्रदर्शन में शामिल लोगों ने अचानक फायरिंग की, जिससे इलाके में अफरा-तफरी मच गई. डलास पुलिस के मुताबिक एसडब्ल्यूएटी अधिकारियों पर हुई गोलीबारी में शामिल तीन संदिग्ध हमलावर हिरासत में है. बम निरोधी दस्ते ने एक संदिग्ध पैकेट बरामद किया है.

इस बीच शूटआउट के बाद अमेरिकी नागरिक उड्डयन विभाग ने डलास से विमानों की आवाजाही पर रोक लगा दी.

डलास के पुलिस प्रमुख डेविड ओ ब्राउन का कहना है कि प्रदर्शन के दौरान गोलीबारी करने वाले तीन संदिग्ध हिरासत में हैं. जबकि चौथे हमलावर और सुरक्षाबलों के बीच फायरिंग हो रही है.

दो स्नाइपरों ने की फायरिंग

डलास पुलिस के मुताबिक विरोध प्रदर्शन के दौरान दो बंदूकधारी स्नाइपरों (निशानेबाजों) ने पुलिसवालों पर गोलियां चलाईं, जिसमें चार अफसर मारे गए और सात घायल हो गए हैं. डलास के पुलिस प्रमुख डेविड ओ ब्राउन ने हमले के बारे में जानकारी दी 

पुलिस का कहना है कि उनके अफसरों पर ऊंचाई से घात लगाकर हमला किया गया है. बताया जा रहा है कि घायल अफसरों में से तीन की हालत बहुत गंभीर है. डलास पुलिस ने हमले में चौथे पुलिस अफसर की मौत की पुष्टि की है.

डलास पुलिस के मुताबिक स्नाइपरों ने किसी 'ऊंची जगह' से गोली चलाई है और यह उस प्रदर्शन के दौरान हुआ जो पुलिस की हालिया जानलेवा कार्यवाही के विरोध में किया जा रहा था.

गुरुवार रात 8 बजकर 45 मिनट पर गोलियां चलनी शुरू हुईं. लाइव टीवी वीडियो में देखा गया कि किस तरह प्रदर्शनकारी सड़क पर मार्च करते हुए आगे बढ़ रहे थे, तभी अचानक गोलियों की आवाज़ें आने लगी और लोग भागने लगे.

इससे पहले डलास पुलिस विभाग ने एक संदिग्ध की तस्वीर ट्विटर पर शेयर की थी, जिसमें एक शख्स बंदूक टांगे दिखाई दे रहा है और बेहद गुस्से में है.

पुलिस फायरिंग में अश्वेत की हुई थी मौत

इसी हफ्ते मिनेसोटा के उपनगर सेंट पॉल और लुइसियाना के बेटन रोज में हुई पुलिस फायरिंग के विरोध में डलास में सैकड़ों लोग विरोध प्रदर्शन के लिए जुटे थे. स्थानीय समयानुसार रात आठ बजकर 45 मिनट पर गोलीबारी शुरू हो गई थी.

प्रदर्शनकारी बुधवार को मिनसोटा के एक अधिकारी द्वारा फिलांदो कास्टाइल को गोली मार दिए जाने के बाद जुटे थे. सेंट पॉल उपनगर में जिस समय कार में बैठे फिलांदो को गोली मारी गई, उस समय कार में एक महिला और बच्ची भी थी.  

ओबामा: नस्लीय भेदभाव की सूचक

अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने कहा है कि इस हफ्ते पुलिस द्वारा अश्वेत व्यक्ति पर घातक गोलीबारी ‘व्यापक नस्लीय भेदभाव की सूचक है’ और सभी अमेरिकियों को इस तरह की घिनौनी घटनाओं से तकलीफ होनी चाहिए.

अमेरिकी आंकड़ों के मुताबिक अश्वेत लोगों के गिरफ्तार होने और पुलिस द्वारा उन्हें गोली मारने की संभावना कहीं ज्यादा होती है. ओबामा ने इन आंकड़ों का हवाला देते हुए कहा, "श्वेत लोगों के मुकाबले अफ्रीकी-अमेरिकी लोगों के साथ बल प्रयोग करने की आशंका 30 फीसदी ज्यादा होती है.

बल प्रयोग के बाद अफ्रीकी-अमेरिकी और हिस्पानवी लोगों की तलाशी लिए जाने की आशंका तीन गुना ज्यादा होती है."

First published: 8 July 2016, 13:12 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी