Home » इंटरनेशनल » Catch Hindi: which is world's safest place to travel
 

अमेरिकी सैलानियों की नज़र में एशिया सबसे सुरक्षित सैरगाह

लमत आर हसन | Updated on: 10 February 2017, 1:52 IST

अगर आपको दुनिया में घूमने का शौक है तो ये जानकार आपको खुशी होगी कि साल 2016 में घुमक्कड़ों के लिए एशिया सबसे सुरक्षित स्थान है.

चिकित्सा और यात्रा सुरक्षा के लिए सलाह देने वाली अमेरिकी संस्था इंटरनेशनल एसओएस 400 अमेरिकी नागरिकों से नए साल में यात्रा से जुड़ी उनकी आशंकाएं जानीं.

संस्था ने यात्रा की योजना बना रहे जिन लोगों से बात की उनमें से ज्यादातर ने यात्रा के लिहाज से आतंकवाद को वायु प्रदूषण से ज्यादा खतरनाक बताया.

आतंकवाद, ज़ीका वायरस, सड़क दुर्घटना, वायु प्रदूषण इत्यादि खतरों के ध्यान में रखते हुए ज्यादातर यात्रियों ने घूमने के लिए एशिया को यूरोप पर तरजीह देने की बात की.

इंटरनेशनल एसओएस ने यात्रियों से संभावित खतरों के बारे में जानकारी चाही. सर्वे में शामिल 71 प्रतिशत लोगों ने कहा कि इस साल यात्रा से जुड़ा खतरा बढ़ेगा. केवल 10 प्रतिशत लोगों का मानना था कि ऐसा नहीं होगा.

एक सर्वे के अनुसार अमेरिकी यात्री एशिया को घुमक्कड़ी के लिए सबसे सुरक्षित मानते हैं

यात्री किस इलाके को यात्रा के लिहाज से सबसे अधिक खतरनाक मानते हैं? इसपर 51 लोगों ने मध्यपूर्व एशिया और उत्तरी अफ्रीका को सबसे खतरनाक माना.

लातिन अमेरिका को 15, उप-सहारा अफ्रीका को 14 प्रतिशत, यूरोप को 12 प्रतिशत और शेष एशिया को 8 प्रतिशत लोगों ने सबसे खतरनाक माना.

पुराने घुमक्कड़ों को सबसे ज्यादा डर फूड प्वायजनिंग से रहता था लेकिन नए यात्रियों को इबोला और ज़ीका वायरस से डर है.

इंटरनेशनल एसओएस ने जिन लोगों से बातचीत की उनमें से 58 प्रतिशत ने फूड प्वायजनिंग के प्रति आशंका जतायी. बाकी यात्रियों को इबोला, मर्स और डेंगी बुखार से डर जताया.

सबसे सुरक्षित एशिया?

Asia Tourism table 1

इस सर्वे के अनुसार एशिया यात्रा के लिए सबसे सुरक्षित इलाका है. सुरक्षा के मामले में एशिया के बाद सबसे सुरक्षित यूरोप है. हालांकि आतंकी हमले के मामले में यूरोप को एशिया से ज्यादा सुरक्षित मानते हैं. यात्रियों को वायू प्रदूषण की कम चिंता है.

इंटरनेशनल एसओएस के वाइस-प्रेसिडेंट डॉक्टर माइलस ड्रकमैन भी मानते हैं कि यात्री वायु प्रदूषण को लेकर ज्यादा चिंतित नहीं होते.

माइलस ड्रकमैन कहते हैं, "यात्रियों को पहले से पता होता है कि उन्हें वायु प्रदूषण का सामना करना पड़ता है. वो चार-पांच दिन तक खराब हवा को सहन कर सकते हैं. ऐसी जगहों के स्थानीय निवासों के लिए ये बड़ी समस्या होती है. यात्रियों के लिए ये बस एक फौरी दिक्कत होती है."

यात्रियों की नजर में संभावित खतरे

  1. आंतकवाद
  2. स्थानीय अपराध
  3. सामाजिक अस्थिरता
  4. निजी हमला
  5. सड़क दुर्घटना
  6. प्राकृतिक आपदा
  7. सूचना और डाटा की चोरी अपहरण और अगवा
  8. असुरक्षित यातायात
  9. भ्रष्टाचार
  10. वीज़ा से जुड़ी मुश्किलें

जहां आतंकवाद को 56 फीसदी यात्रियों ने संभावित खतरा माना वहीं केवल छह प्रतिशत ने वीज़ा से जुड़ी दिक्कतों की बात कही. 31 प्रतिशत ने 'निजी हमले' के प्रति अपनी आशंका जाहिर की.

सेहत से जुड़े खतरों की बात करें तो यात्रियों को सबसे ज्यादा चिंता फूड प्वायजनिंग की थी.

यात्रियों की स्वास्थ्य से जुड़ी आशंकाएं

Asia Tourism 2
  1. खाने और पानी से होने वाली बीमारियां
  2. अच्छी स्वास्थ्य सेवा का अभाव
  3. वायुजनित बीमारियां
  4. स्थानीय बीमारियां
  5. वायु की गुणवत्ता
  6. आपातकालीन चिकित्सा व्यवस्था
  7. दवाइयों की कम उपलब्धता
  8. मनोवैज्ञानिक-सामाजिक सुविधाओं का अभाव

सर्वे के अनुसार 67 प्रतिशत यात्री फूड प्वायजनिंग को लेकर आशंकित थे. वहीं 19 प्रतिशत को वायु प्रदूषण की चिंता थी.

आप इस खबर को हिंदी में पढ़ रहे हैं तो इस बात की संभावना बहुत है कि आप एशिया के किसी इलाके में हों. इसलिए तैयार हो जाइए विदेशी मेहमानों के स्वागत के लिए.

First published: 2 February 2016, 8:28 IST
 
लमत आर हसन @LamatAyub

संवाददाता, कैच न्यूज़

पिछली कहानी
अगली कहानी