Home » इंटरनेशनल » Women created history in space NASA carried out first all female spacewalk
 

नासा की महिला अंतरिक्ष यात्रियों ने की स्पेस में अकेले चहलकदमी, रचा इतिहास

कैच ब्यूरो | Updated on: 19 October 2019, 10:12 IST

नासा की महिला अंतरिक्ष यात्रियों ने अंतरिक्ष में इतिहास रच दिया. दरअसल, अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा की महिला अंतरिक्ष यात्रियों ने पहली बार स्पेस में अकेले चहलकदमी की. इस दौरान उनके साथ कोई पुरुष अंतरिक्ष यात्री नहीं था और दो महिला अंतरिक्ष यात्री अकेले ही स्पेसवॉक करती रहीं.

अंतरिक्ष के क्षेत्र में अनोखा इतिहास रचने वाली अमेरिकी अंतरिक्ष यात्री क्रिस्टीना कोच और जेसिका मीर हैं. दोनों महिला अंतरिक्षयात्रियों ने इस ऐतिहासिक पल को अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन (ISS) के बाहर उस वक्त पूरा किया जब वह टूटे हुए बैटरी चार्जर को बदलने के लिए स्पेस स्टेशन से बाहर अंतरिक्ष में चहलकदमी करती दिखाई दीं.

बता दें कि वैसे नासा का ये मिशन इसी साल मार्च महीने में पूरा होने वाला था. लेकिन अंतरिक्ष यात्रियों को सूट के चलते ये उस वक्त पूरा नहीं हो सका. दरअसल, नासा के पास अंतरिक्ष यात्रियों के लिए जो कपड़े थे, उनमें सिर्फ महिला-पुरुष जोड़ीदार की साइज वाले ही कपडे़ थे. लेकिन नासा को दो महिला अंतरिक्षयात्रियों के लिए स्पेस सूट की जरूरत थी. जिसके चलते ये मिशन कुछ महीने की देरी से शुरु हो पाया.

गौरतलब है कि अभी तक अंतरिक्ष में 420 स्पेसवॉक हुए है. जिसमें हर बार किसी न किसी रूप में पुरुषों भी शामिल रहे हैं. लेकिन 421वें स्पेसवॉक में ये कारनामा महिलाओं ने किया. इस दौरान दोनों महिला अंतरिक्षयात्री स्पेस स्टेशन के बाहर चहलकदमी कर रही थीं और चारों पुरुष अंतरिक्षयात्री अंतरिक्ष स्टेशन के अंदर थे. बता दें कि क्रिस्टीना कोच और जेसिका मीर अंतरिक्ष में अकेले (बिना पुरुषों के) चहलकदमी करने वाली दुनिया की पहली अंतरिक्ष यात्री बन गईं.

बता दें कि अंतरिक्ष स्पेस स्टेशन पर बैटरी चार्जर खराब हो गया था. जिसे ठीक करने के लिए दोनों महिला अंतरिक्ष यात्री अंतरिक्ष स्टेशन से बाहर निकलीं और स्पेस में चहलकदमी करते हुए स्पेस स्टेशन की बैटरियां सही कीं. बता दें कि इससे पहले अंतरिक्ष में 15 महिला अंतरिक्ष यात्री अपने पुरुष साथी के साथ स्पेसवॉक कर चुकी हैं. नासा का इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन पूरी तरह से सौर ऊर्जा से संचालित होता है. जिन्हें सूरज की सीधी रोशनी में रखना होता है. जिन्हें ठीक करने की जिम्मेदारी अंतरिक्ष स्टेशन में रह रहे यात्रियों की होती है.

FATF ने पाकिस्तान को सुधरने के लिए दी 4 महीने की मोहलत, टेरर फंडिंग पर लगाए रोक

First published: 19 October 2019, 10:16 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी