Home » इंटरनेशनल » World's first Electric Road introduced in Sweden
 

स्वीडन में चालू हो गई दुनिया की पहली इलेक्ट्रिक रोड

कैच ब्यूरो | Updated on: 25 June 2016, 13:40 IST

स्वीडन दुनिया का ऐसा पहला मुल्क बन गया है जहां पर इलेक्ट्रिक रोड बना दी गई है. यानी यहां की सड़कों पर अब वाहन बिजली से चलेंगे. 

स्वीडन में बुधवार को एक इलेक्ट्रिक रोड का उद्घाटन किया गया. शुरुआत में इसके लिए सड़क के एक हिस्से को चुना गया है और इसमें परीक्षण किया जाएगा. प्रारंभिक स्तर पर एक सार्वजनिक सड़क पर भारी वाहनों द्वारा इसका इस्तेमाल किया जाएगा.

देश का पहला दोपहिया सीएनजी वाहनः 1 किलोग्राम में 120 किलोमीटर

जिन्हुआ द्वारा जारी रिपोर्ट के मुताबिक स्वीडन के परिवहन विभाग ट्रैफिकवरकेट ने इस संबंध में एक प्रेस विज्ञप्ति जारी की. इसमें लिखा है कि यह परीक्षण ई16 रोड हाईवे के 22 किलोमीटर के हिस्से पर किया जाएगा. यह ओस्लो, नार्वे को गैव्ले, स्वीडन से जोड़ती है.

इसके लिए ट्रक की छत पर करंट कलेक्टर लगाया गया है जो सड़क के ऊपर लगे तार से जुड़ने के बाद ट्रक में लगी हाइब्रिड इलेक्ट्रिक मोटर तक करंट भेजता है और ट्रक चलता रहता है.

ट्रैफिकवेरकेट की महानिदेशक लेना एरिक्सॉन ने कहा, "इलेक्ट्रिक सड़कें हमें जीवाश्म ईंधन मुक्त परिवहन की दिशा में एक कदम और आगे ले जाएंगी और इनमें शून्य कार्बन डाईऑक्साइड उत्सर्जन की क्षमता है. पहले से मौजूद सड़क नेटवर्क में ही पर्यावरण हितैषी स्मार्ट ट्रांसपोर्ट विकसित करने का यह एक बेहतर तरीका है."

देखें, 5,300 करोड़ पिक्सल वाली दुनिया की सबसे बड़ी तस्वीर

वहीं, स्वीडन की एनर्जी एजेंसी के महानिदेशक एरिक ब्रैंडस्मा ने कहा, "विशेषकर दीर्घकालिक अवधि के लिए भारी वाहनों को जीवाश्म ईंधन मुक्त बनाने के लिए, इलेक्ट्रिक रोड भविष्य के ट्रांसपोर्ट सिस्टम की पहेली का एक और हिस्सा हैं."

स्वीडन द्वारा यह परीक्षण 2018 तक जारी रहेगा. इससे यह जानकारी मिलेगी कि कैसे इलेक्ट्रिक रोड काम करती हैं और क्या इस तकनीक को भविष्य में इस्तेमाल किया जा सकता है. 

यह प्रयोग सरकार की ऊर्जा कार्यक्षमता और जीवाश्म ईंधनमुक्त वाहनों के 2030 के लक्ष्य पर आधारित है. साथ ही यह स्वीडन की प्रतिस्पर्धात्मक क्षमता को मजबूत करने में योगदान देगा.

शाओमी काइस्किल यानी फोल्डेबल और स्मार्ट ई-साइकिल

इस परियोजना के लिए स्वीडन का परिवहन विभाग, ऊर्जा एजेंसी और वहां की इन्नोवेटिव एजेंसी विन्नोवा द्वारा वित्तीय सहायता दी जा रही है, जबकि बाकी की रकम इसके प्रतिभागियों द्वारा दी जा रही है.

First published: 25 June 2016, 13:40 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी