Home » इंटरनेशनल » Wuhan finally free from Lockdown after 76 long days signs of life are returning in the Chinese city
 

Corona Virus: लॉकडाउन से 76 दिन बाद 'आजाद' हुआ चीन का वुहान, यहीं से फैला कोविड-19

कैच ब्यूरो | Updated on: 8 April 2020, 10:11 IST

Lockdown ends in Wuhan: कोरोना वायरस (Corona Virus) से पूरी दुनिया अभी भी लड़ाई लड़ रही है. वहीं चीन (China) के वुहान शहर (Wuhan City) में जिंदगी धीरे-धीरे सामान्य होने लगी है. चीन का वुहान शहर ही वे जगह है जहां से निकले कोरोना वायरस ने पूरी दुनिया की रफ्तार को रोक दिया. वुहान को 76 दिनों बाद लॉकडाउन (Lockdown) से पूरी तरह से आजादी मिल गई है. वुहान में कोरोना वायरस फैलने के बाद जनवरी के आखिरी सप्ताह में ही पूरी तरह से लॉकडाउन लगा दिया गया था. लेकिन अब शहर में दोबारा से जिंदगी सामान्य होने लगी है.

कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए चीन सरकार ने वुहान के साथ-साथ देश के कई हिस्सों में पूरी तरह से लॉकडाउन कर रखा था. जिसका चीन को काफी फायदा भी मिला. इसी को देखते हुए भारत समेत दुनियाभर के देशों ने लॉकडाउन के तरीके को अपना. भारत में फिलहाल 21 दिनों का लॉकडाउन चल रहा है जो 14 अप्रैल को खत्म हो रहा है. हालांकि अभी भी ये माना जा रहा है 15 अप्रैल से भी भारत के सभी शहरों में लॉकडाउन को हटाया नहीं जाएगा. क्योंकि भारत में कोरोना का प्रसार तेजी से हो रहा है. जिसे देखते हुए लॉकडाउन को आगे भी बढ़ाया जा सकता है.


वुहान चीन के हुबेई राज्य की राजधानी है और ये शहर देश के व्यावसायिक शहरों में से एक है. वुहान में कई मेडिकल और इंजीनियरिंग कॉलेज हैं जहां बड़ी संख्या में भारतीय छात्र पढ़ते हैं. वुहान में कोविड-19 फैलने के बाद भारत ने अपने सभी छात्रों को वापस बुला लिया था. जिसके लिए भारत ने एयर इंडिया की कई फ्लाइट्स भेजी थीं. बता दें कि वुहान में करीब एक करोड़ 10 लाख लोग रहते हैं. अब यहां के लोगों को कहीं भी जाने में किसी तरह की इजाजत लेने की जरूरत नहीं होगी. बुधवार की मध्य रात्रि से यहां लॉकडाउन को पूरी तरह से हटा दिया गया है. लोगों को आने जाने के लिए अनिवार्य स्मार्ट फोन एप्लिकेशन का इस्तेमाल करना होगा. जिससे ये पता चल सके कि वे स्वस्थ हैं और किसी संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में नहीं आए हैं.

वुहान में लॉकडाउन हटने के बाद शहर की यांगतेज नदी के दोनों ओर लाइट शो भी हुआ. गगनचुंबी इमारतों और पुलों पर ऐसी छवियां तैर रहीं थीं जिनमें स्वास्थ्यकर्मी मरीजों को ले जाते हुए दिख रहे थे, तो कहीं वुहान के लिए 'हीरोइक सिटी' शब्द दिख रहे थे. तटबंधों और पुलों पर नागरिक झंडे लहरा रहे थे और 'वुहान आगे बढ़ो' के नारे लगा रहे थे तथा चीन का राष्ट्रगान गा रहे थे. एक स्थानीय व्यक्ति तोंग झेंगकुन ने कहा, "मुझे बाहर निकले को 70 दिन से भी ज्यादा वक्त हो गया. वह जिस इमारत में रहते थे वहां संक्रमित व्यक्ति मिले थे जिसके बाद से पूरी इमारत को बंद कर दिया गया था."

वुहान में लॉकडाउन खुलने के बाद सड़कों पर गाड़ियां भी नजर आईं. सैकड़ों लोग शहर से बाहर जाने के लिए ट्रेनों और विमानों का इंतजार करते नजर आए. कई लोग अपने काम पर लौटते भी दिखाई दिए. चीन की सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी के अखबार ने इतनी जल्दी जश्न मनाने के खिलाफ चेतावनी दी है. बता दें कि चीन में करीब 82 हजार कोरोना संक्रमित मिले थे. इनमें से 50 हजार केवल वुहान के थे. चीन में कुल 3331 लोगों की मौत हुई जिनमें से केवल 2,500 लोग वुहान में ही मारे गए.

कोरोना वायरस: दुनियाभर में 82 हजार से ज्यादा मौत, भारत में पीड़ितों की संख्या पांच हजार के पार

coronavirus; 76 दिनों से पूरी तरह बंद था चीन का वुहान, 8 अप्रैल से शुरू करेगा पब्लिक ट्रांसपोर्ट

कोरोना से लड़ाई लड़ने के लिए खुद मैदान में उतरा इस देश का प्रधानमंत्री, कोविड-19 पीड़ितों का करेंगे इलाज

First published: 8 April 2020, 10:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी