Home » इंटरनेशनल » Yellow Vests Riot In France Capital Paris After Petrol Diesel Price Hike Emergency Can Be Implemented
 

फ्रांस में बढ़ी पेट्रोल-डीजल की कीमतें तो सड़कों पर उतर आए लोग, गृह युद्ध जैसे पैदा हुए हालात

कैच ब्यूरो | Updated on: 3 December 2018, 10:31 IST

पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों पर हमारे देश में लोग भले ही सड़कों पर उतरकर सरकार के खिलाफ विरोध ना जताते हों, लेकिन फ्रांस जैसे ताकतवर देश के लोग अपना इसके खिलाफ जमकर विरोध जताते हैं. जैसा कि इनदिनों फ्रांस में देखने को मिल रहा है. पेट्रोल-डीजल की पढ़ती कीमतों से फ्रांस के लोग भी परेशान हैं, इसीलिए यहां लोग सड़कों पर उतर आए हैं. लोगों का गुस्सा इतना आक्रामक हो गया है कि अब सरकार देश में इमरजेंसी लगाने के बारे में सोचने लगी है.

बता दें कि रविवार को राजधानी पेरिस के कई पॉश इलाकों में युद्ध जैसे हालात पैदा हो गए. कई स्थानों पर कारों में आग लगा दी गई तो कई जगहों पर दुकानों में लूटपाट की गई. कई इमारतों को आग के हवाले कर दिया गया. आक्रोशित लोगों ने जगह-जगह तोड़फोड़ की. उपद्रवियों ने शहीद स्मारक आर्क-डि-ट्रिंफ को भी नहीं बख्शा.

इस दौरान प्रदर्शनकारियों और सुरक्षा बलों के बीच झड़पें भी हुईं. जिसमें 263 लोग घायल हो गए. घायलों में सुरक्षा बलों के 23 जवान भी शामिल हैं. वहीं जाम के दौरान एक शख्स की मौत हो गई.

रविवार शाम राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने पेरिस में लोगों के इस प्रदर्शन को देखा. उसके बाद उन्होने स्मारक पर जाकर शहीदों को श्रद्धांजलि दी. साथ ही आपात बैठक के दौरान मैक्रों ने हालात को काबू करने के सख्त निर्देश दिए है, इसी के साथ आपातस्थिति लगाने पर भी विचार किया है. बता दें कि इससे पहले ऐसे हालात 50 साल पहले भी पेरिस में पैदा हुए थे, जब सामाजिक बदलाव के लिए लोग सड़कों पर उतर आए थे. इससे पहले बिगड़ते हालात के बीच मैक्रों रविवार सुबह ब्यूनस आयर्स के जी-20 शिखर सम्मेलन से पेरिस लौटे.

G-20 समित के दौरान ब्यूनस आयर्स में मैक्रों ने कहा, हिंसा को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा. सुरक्षाबलों, कारोबारियों और आमजनों पर हमलों को सहन नहीं किया जाएगा और हिंसा फैलाने वालों से सख्ती से निपटा जाएगा. इसी के साथ उन्होंने बढ़ाए गए टैक्स को वापस लेने से इंकार कर दिया है और इसे देश की अर्थव्यवस्था के लिए जरूरी बताया.

बता दें कि शनिवार और रविवार को पेरिस में हुए हिंसक प्रदर्शनों के बाद पुलिस ने 412 लोगों को गिरफ्तार किया है. इन प्रदर्शनों में यलो वेस्ट पहने नकाबधारी लोगों ने कई महत्वपूर्ण इमारतों में आग लगाई थी. रविवार सुबह भी पेरिस के प्रमुख इलाके नारबोर्न और कई अन्य जगह आगजनी की घटनाएं हुईं. गृह मंत्रालय के अनुसार पेरिस में आगजनी की कुल 190 घटनाएं हुई हैं. जिसमें 6 इमारतों को जलाकर खाक कर दिया गया है.

इसके अलावा पूर्वी फ्रांस का मुख्य मार्ग भी जाम कर दिया गया. एरलेस शहर में एक सवार के मरने की खबर है. प्रदर्शनकारियों ने यहां दस किलोमीटर से ज्यादा लंबा जाम लगा था. दो हफ्ते से जारी हिंसा का सिलसिला सरकार द्वारा पेट्रोल और डीजल पर टैक्स बढ़ाए जाने के बाद शुरू हुआ. हिंसक विरोध प्रदर्शन यलो वेस्ट नाम के संगठन के बैनर तले हो रहा है. प्रदर्शनों की सफलता को वह अपनी जीत के तौर पर प्रदर्शित कर रहा है.

ये भी पढ़ें- फिल्म फेस्टिवल में ऐसी ड्रेस पहनकर पहुंची ये एक्ट्रेस कि मच गया बवाल, देखें वीडियो

First published: 3 December 2018, 10:12 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी