Home » आईपीएल » crisis on matches in feroz shah kotla stadium Delhi due to old club house building, Delhi high court says SDMC
 

IPL 2018: चेन्नई के बाद दिल्ली से भी छिन सकता है घरेलू मैदान

कैच ब्यूरो | Updated on: 19 April 2018, 15:15 IST

आईपीएल के 11वें सीजन में क्रिकेट मैदान को लेकर बड़ा विवाद चल रहा है. इस बार दिल्ली के फिरोजशाह कोटला मैदान पर होने वाले आईपीएल मैचों पर संकट के बादल छाए हुए हैं. दरअसल, दिल्ली उच्च न्यायालय ने दक्षिण दिल्ली नगर निगम (एसडीएमसी) से कहा कि अगर वह फिरोजशाह कोटला के ओल्ड क्लब हाउस को आगामी आईपीएल मैचों के लिये प्रसारक और उसके उपकरणों को समायोजित करने के लिये संरचनात्मक रूप से मजबूत होने का प्रमाणपत्र देता है तो  मैच के दौरान किसी भी तरह की दुर्घटना होने पर पूरी जिम्मेदारी एसडीएमसी की होगी.

बता दें कि दिल्ली एंव जिला क्रिकेट संघ (डीडीसीए) प्रसारण कंपनियों के लिए स्टेडियम में स्थित ओल्ड हाउस क्लब की बिल्डिंग का इस्तेमाल करना चाहता है. वहीं इस बिल्डिंग की हालत ऐसी नहीं है कि कंपनियां वहां उपकरण लगा सकें. इस पूरे मामले में जस्टिस राजीव शकधर ने कहा, "डीडीसीए या मैं विशेषज्ञ नहीं हैं एसडीएमसी को हस्ताक्षर करने होंगे और उन्हें पूरी जिम्मेदारी लेनी होगी. अगर इमारत गिरती है और यहां तक कि एक भी व्यक्ति घायल होता है या मरता है तो इसके लिए आप ही जिम्मेदार माने जाएंगे. मैच तो होते रहेंगे."

वहीं एसडीएमसी ने अदालत से कहा कि उसने एक सलाहकार की सेवाएं ली हैं, जिन्होंने ओल्ड क्लब हाउस की ढांचागत स्थिरता को लेकर अंतरिम रिपोर्ट दी है. डीडीसीए से शपथपत्र लेने के बाद अंतिम रिपोर्ट उपलब्ध हो जाएगी. आईपीएल के मैंचो का हवाला देते हुए डीडीसीए ने कहा अगर ओल्ड क्लब हाउस का उपयोग प्रसारण उपकरण रखने और संबंधित व्यक्तियों के लिये नहीं किया जा सका तो फिर 23 अप्रैल से यहां होने वाले आइपीएल मैचों का आयोजन स्टेडियम में नहीं हो पाएगा.

बता दें कि दिल्ली के फिरोजशाह कोटला मैदान पर 23 अप्रैल को दिल्ली डेयरडेविल्स और किंग्स इलेवन पंजाब के बीच मुकाबला होगा. इससे पहले दिल्ली की टीम का मुकाबला कोलकाता के साथ हुआ था, इस मुकाबले में कोलकाता ने दिल्ली की टीम को 71 रनों से हरा दिया था.

First published: 19 April 2018, 15:15 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी