Home » आईपीएल » IPL 2018:Chennai Super Kings not dads army, his method to madness
 

IPL 2018: CSK को बूढ़ों की फौज कहकर चिढ़ाने वालों का धोनी ने किया मुंह बंद

कैच ब्यूरो | Updated on: 26 May 2018, 16:20 IST

IPL 2018 के फाइनल में 27 मई को चेन्नई सुपर किंग्स और सनराइजर्स हैदराबाद के बीच खिताबी मुकाबला होने जा रहा है. दो साल बाद आईपीएल में वापसी करने वाली चेन्नई सुपर किंग्स के फाइनल में खेलने को लेकर किसी ने कल्पना भी नहीं की थी.

धोनी की इस टीम को बूढ़ों की फौज कहकर खारिज कर दिया गया था. कहा गया कि चेन्नई में अधिकतर खिलाड़ी 30 साल से ज्यादा की उम्र के हैं. ऐसे में टीम से खिताबी प्रदर्शन की बहुत कम उम्मीद है. लेकिन चेन्नई ने उन लोगों को गलत साबित करते हुए फाइनल में जगह बना ली है.

चेन्नई की टीम सातवीं बार आईपीएल के फाइनल में पहुंची है. ऐसा कपने वाली वो अकेली टीम है. इसके साथ ही चेन्नई सुपर किंग्स कभी भी प्ले-ऑफ से बाहर नहीं हुई है, जो एक रिकॉर्ड है.

चेन्नई सुपर किंग्स अब खिताब से एक कदम दूर है. धोनी की कप्तानी में बूढ़ों की ये फौज शानदार प्रदर्शन कर रही है. इस टीम ने ये साबित कर दिया है कि उम्र एक आकंड़ा है. अनुभव के सामने उम्र के कोई मायने नहीं है. अनुभव- अनुभव होता है. धोनी की कप्तानी में इस टीम को हराना मुश्किल साबित हो रहा है. चेन्नई की दीवार को भेदना हर किसी के बस का बात नहीं है.

IPL twitter

आईपीएल 11 की नीलामी के दौरान चेन्नई ने अंबाती रायुडू 32, सुरेश रैना 31, शेन वाटसन और हरभजन सिंह 37 साल के खिलाड़ियों को तरहीज दी थी. धोनी खुद 36 साल के हैं. नीलामी के बाद लोगों ने इस टीम को बूढ़ों की फौज कहकर खारिज कर दिया. लेकिन धोनी ने इन बूढ़ों की फौज के दम पर ही फाइनल में जगह पक्की कर ली है. कोई भी टीम बूढ़ों की इस फौज के सामने टिक नहीं पाई है.

IPL twitter

चेन्नई सुपर किंग्स अब खिताब से एक कदम दूर है. हालांकि यह सही है कि चेन्नई को फाइनल में पहुंचान के पीछे धोनी के कम्प्यूटर वाले तेज दिमाग को भी श्रेय जाता है. जो किसी भी टीम को मात देने के लिए काफी है. धोनी ने जिस तरह से अनुभव को तरहीज दी और उनका इस्तेमाल किया. वह वाकई काबिले तारीफ रहा है.

जो लोग चेन्नई सुपर किंग्स को बूढ़ों की फौज कहकर खारिज कर देते थे, आज वहीं लोग इस टीम की तारीफ करते थक नहीं रहे हैं. चेन्नई सुपर किंग्स के हर खिलाड़ी ने किसी ना किसी मैच में विजयी भूमिका निभाई है. जिसका नतीजा है कि वह आज फाइनल में खिताबी जीत के लिए दावा पेश कर रही है.

IPL twitter

इस सीजन में चेन्नई सुपर किंग्स के बल्लेबाज अबांती रायडु (586 रन ) सबसे ज्यादा रन बनाने वाले दूसरे खिलाड़ी हैं. वह हैदराबाद के कप्तान केन विलियमसन से 102 रन पीछे हैं. विलियमसन रन बनाने के मामले में पहले स्थान पर हैं. वहीं धोनी ने इस सीजन में  455 रन बनाए हैं, जिसमें 30 छक्के शामिल हैं. धोनी ने चेन्नई सुपर किंग्स को सातवीं बार फाइनल में पहुंचा कर साबित कर दिया कि अनुभव का कोई सानी नहीं है. 

First published: 26 May 2018, 16:09 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी