Home » आईपीएल » IPL 2018 match winning formula applied by all 8 captains include ms dhoni
 

IPL 2018: ये है मैच जीतने का मंत्र, जिसे अपना रहे हैं सभी कप्तान  

विकाश गौड़ | Updated on: 12 April 2018, 16:13 IST

IPL 2018 के शानदार आगाज के बाद इसके अब तक 6 मुकाबले हो चुके हैं. इस दौरान ज्यादातर मुकाबले रोमांचक ही हुए हैं आखिरी के ओवरों में टीमें जीती हैं. साथ ही अब तक हुए सभी मुकाबलो में कुछ बातों बहुत ही कॉमन हुई हैं जो चौंकाने वाली हैं.

दरअसल, IPL 2018 में सभी टीमें अपना एक-एक मुकाबला खेल ही चुकी हैं, जबकि चार टीमें अपने दो-दो मुकाबले खेल चुकी हैं. इस बीच जो चौंकाने वाली बात है कि सभी कप्तानों ने मैच से पहले एक फैसला लिया है, जो काफी हद तक सही साबित हुआ है.

 

आपको बता दें, इस बार के आईपीएल मैचों में सभी कप्तानों ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी चुनी है. इस शॉर्ट फॉर्मेट में गेम कब बदल जाए किसी को नहीं पता. यही सब अभी तक देखने को मिला है. टीम के कप्तान ने टॉस जीता पहले गेंदबाजी की और 202 रनों का टारगेट भी चेज कर लिया.

इसी बात से अंदाजा लगाया जा सकता है आपको सिर्फ टॉस जीतना मैच तो जीत ही जाएंगे. हालांकि एक अपवाद केवल दिल्ली डेयरडेविल्स के साथ जरूर रहा है कि उसे टॉस जीतने के बाद फील्डिंग भी की लेकिन मैच नहीं जीत पाए. हालांकि इस मैच में बारिश ने खलल डालकर मैच को छोटा कर दिया था जिस वजह से दिल्ली 10 रन से हार गई. 

गौरतलब है कि आईपीएल 2018 के पहले मुकाबले से लेकर छठे मुकाबले तक सभी कप्तानों का एक डिसीजन रहा है. ये हैं वो 6 मुकाबले.

7 अप्रैल- मुंबई इंडियंस बनाम चेन्नई सुपर किंग्स- एमएस धोनी ने टॉस जीतकर मुंबई को एक विकेट से हराया.

8 अप्रैल- किंग्स इलेवन पंजाब बनाम दिल्ली डेयरडेविल्स- आर अश्निन ने टॉस जीतकर 6 विकेट से दिल्ली को रौंदा.

8 अप्रैल- कोलकाता नाइट राइडर्स बनाम रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर- दिनेश कार्तिक ने टॉस जीतकर 4 विकेट से मैच जीता.

9 अप्रैल- सनराइजर्स हैदराबाद बनाम राजस्थान रॉयल्स- विलियम्सन ने टॉस जीतकर राजस्थान को 9 विकेट से पटका.

10 अप्रैल- चेन्नई सुपर किंग्स बनाम कोलकाता नाइट राइडर्स- धोनी ने टॉस जीतकर केकेआर को 5 विकेट से हराया.

11 अप्रैल- राजस्थान रॉयल्स बनाम दिल्ली डेयरडेविल्स- गौतम गंभीर ने टॉस जीता लेकिन डकवर्थ लुईस नियम से मैच हारा.

दरअसल, क्रिकेट के सबसे छोटे फॉर्मेट में हर एक खिलाड़ी अपना सौ फीसदी देना चाहता है लेकिन जब कोई टीम पहले बल्लेबाजी करती है तो उसे ज्यादा से ज्यादा रन बनाने होते हैं. वहीं, जब दूसरी टीम चेज कर रही होती है तो उसे पता होता है कि एक ओवर में उसे इतने रन बनाने ही बनाने हैं.

यहां तक कि जब कोई ओवर बल्लेबाजी टीम के लिए अच्छा जाता है तो रन रेट का दवाब कम हो जाता है. यहां तक कि उसे अंतिम गेंद तक भरोसा होता है कि रन बन जाएंगे. इसके अलावा एक फेक्टर ये भी कि रात को हो रहे मैच में इन दिनों ओस गिरती है ऐसे में स्पिन गेंदबाजों के हाथ से गेंद छूटती है और भीगी हुई गेंद से ग्रिप भी नहीं बनती.

इस दौरान जो फायदा होता है वो सिर्फ बल्लेबाजी टीम को होता है क्योंकि बल्ले पर गेंद सही तरीके से आती है. इस दौरान खिलाड़ी से मिस फील्डिंग के चांसेस भी होते हैं क्योंकि ग्राउंड गीला होता है.

First published: 12 April 2018, 16:13 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी