Home » आईपीएल » Ms dhoni four success formula of wining matches
 

IPL 2018: धोनी के ये 4 सफलता मंत्र हैं चेन्नई के 7वीं बार फाइनल में पहुंचने का राज

कैच ब्यूरो | Updated on: 27 May 2018, 13:32 IST

धोनी की अगुवाई में चेन्नई सुपरकिंग्स एक बार फिर फाइनल में पहुंच चुकी है. आज फाइनल में चेन्नई का मुकाबला सनराइजर्स हैदराबाद के साथ होगा. इसके साथ ही यह 7वीं बार है, जब चेन्नई की टीम फाइनल में पहुंची है. साथ हीं इस नायाब कारनामे का पूरा श्रेय जाता है टीम के कैप्टन कूल महेन्द्र सिंह धोनी को. जो अपने नए एक्सपेरिमेंट के जरिए कमाल करते रहते हैं. आज हम आपको बताएंगे, धोनी के 4 सफलता मंत्र के बारे में जिसके इस्तेमाल से धोनी ने येे कारनामा किया है.

ये भी पढ़ें-क्रिकेट में फिर सामने आया मैच फिक्सिंग का जिन्न, रविवार को होगा बड़ा खुलासा

शांत और 'शातिर' दिमाग

कप्तान के तौर पर एमएस धोनी ने फिर साबित कर दिया कि सफेद होते बालों के नीचे उनका दिमाग पहले जितना ही शांत और 'शातिर' है. रविंद्र जाडेजा ने कभी कहा था कि माही भाई कहते हैं ‘हम हारेंगे भी साथ में और जीतेंगे भी साथ में’. धोनी ने भी कहा है कि ड्रेसिंग रूम का अच्छा माहौल टीम की सफलता का राज है.

नहीं बदलते हैं टीम के खिलाड़ी

आईपीएल में चेन्नई की अलावा शायद ही कोेई ऐसी टीम है, जो टीम में अपने खिलाड़ियों को बदलता नहीं होगा. एमएस धोनी, सुरेश रैना, ड्वेन ब्रावो, रविंद्र जाडेजा ये कुछ ऐसे नाम हैं- जो पीली जर्सी में कोर ग्रुप के हिस्सा हैं. आईपीएल के इन सुपर किंग्स को फ्रैंचाइजी ने लगातार अपने साथ बनाए रखा. बैन के दौरान धोनी, रैना, ब्रावो किसी और टीम से खेले, लेकिन लीग में चेन्नई की वापसी बाद ये टीम में दुबारा आ गये.

नए टेलेंट से करते हैं कमाल

धोनी हर सीजन फ्रैंचाइजी को कुछ नए चेहरों को खरीदने की सलाह दे देते हैं. इसके साथ ही नए होने के बाद भी उन्हें प्लेइंग इलेवन में मौका भी देते हैं. इसका एक उदाहरण मोहित शर्मा हैं, जिन्होंने चेन्नई की ओर से खेलकर टीम इंडिया तक का सफर किया. वहीं इस सीजन में धोनी ने दीपक चाहर को मौका दिया. इस पेसर ने अपनी स्विंग के दम पर 11 मैचों में 10 विकेट चटकाए.

करते हैं नए एक्सपेरिमेंट

धोनी कप्तान के तौर पर एक्सपेरिमेंट करने और रिस्क उठाने से नहीं डरते हैं. यही उनकी टीम की जीत का राज भी है. चाहे अंबाती रायुडू से ओपन करवाने का उनका फैसला हो या इंटरनैशनल क्रिकेट से रिटायर हो चुके शेन वॉट्सन को इलेवन में शामिल करने का फैसला किया. धोनी का हर दाव एकदम फिट बैठता है. इस सीजन में रायुडू ने 15 मैच में एक सेंचुरी सहित 586 रन बनाकर और वॉट्सन ने सेंचुरी ठोक इसकी एक बार फिर पुष्टि कर दी.

First published: 27 May 2018, 13:10 IST
 
अगली कहानी