Home » आईपीएल » IPL 2019 : BCCI angry With Rajasthan Royal Management naming Steve Smith as Captian
 

IPL 2019 : स्टीव स्मिथ को राजस्थान का कप्तान बनाने से नाराज हुआ BCCI, हो सकती है कार्रवाई

कैच ब्यूरो | Updated on: 21 April 2019, 10:17 IST

आईपीएल फ्रेंचाइजी राजस्थान रॉयल्स मुंबई इंडियंस के मैच से पहले अंजिकय रहाणे से कप्तानी छीनकर स्टीव स्मिथ को इस सीजन के बाकी के बचे मैचों के लिए टीम का कप्तान बनाया है. राजस्थान
रॉयल्स के इस फैसले से बीसीसीआई भी काफी हैरान है.

शानिवार को राजस्थान रायल्स और मुंबई इंडियंस के बीच आईपीएल का ३६वां मैच खेला गया. इस मैच से पहेल राजस्थान ने रहाणे की कप्तानी में आठ मैच खेले थे और उसे मात्र २ में जीत हाासिल हुई थी और वो अंक तालिक में छठवें पायदान पर थी. शानिवार को अचानक राजस्थान ने अंजिक्य रहाणे से कप्तानी छीनकर स्टीव स्मिथ को दे दी.

राजस्थान के इस फैसले से बीसीसीआई भी काफी हैरान है. दरअसल, बीते साल केपटाउन टेस्ट के दौैरान स्टीव स्मिथ, डेविड वॉर्नर और कैमरून बैनक्रॉफ्ट पर बॉल टैंपरिंग के आरोप लगे थे. जिसके बाद इन तीनों खिलाड़ियों पर बैन लगाया गया था. क्रिकेट आस्ट्रेलिया ने अपने फैसले में साफ किया था कि स्टीव स्मिथ अंतरराष्ट्रीय और घरेलू किसी भी मैच में दो साल कर कप्तानी नहीं करेंगे.

Video: कोहली और मोईन अली की धुलाई के बाद मैदान पर फूट-फूटकर रोए कुलदीप यादव

एक-दूजे के प्यार में घायल हुईं न्यूजीलैंड और ऑस्ट्रेलिया की महिला क्रिकेटर, रचाई शादी

बीसीसीआई ने क्रिकेट आस्ट्रेलिया के इसी फैसले का हवाला देते स्टीव स्मिथ को राजस्थान का कप्तान बनाए जाने पर नाराजगी जताई है. बीसीसीआई के एक अधिकरी ने कहा है कि, हम राजस्थान से पूछेंगे की क्या उनका यह फैसला सही है. जबकि आस्ट्रेलिया ने स्मिथ जो बैन लगाया हुआ है वो एक साल अभी और बचा हुआ है.

IPL 2019: रहाणे से छिनी राजस्थान की कमान, जानिए अब कौन बना कप्तान

स्टीव स्मिथ, डेविड वॉर्नर और कैमरून बैनक्रॉफ्ट पर बीते सात आईपीएल खलने को लेकर भी प्रतिबंध लगा था. बीसीसीआई के अधिकारी ने इस बैन पर सवाल उठाते हुए कहा कि, प्रशासकों की समिति (सीओए) ने बीते साल इन खिलाड़ियों पर बैन लगाया था. तो ऐसे में स्टीव स्मिथ की कप्तानी पर बैन का क्या हुआ. क्या दोनों खिलाड़ियों पर सिर्फ मैच खेलने का बैन लगया गया था और वो क्या वह इस फैसले का हिस्सा नहीं है या फिर सीओए के फैसले को अपनी सहुलियतों के हिसाब से अमल में लाया जाएगा. साओए को इस मामले को अपने संज्ञान में लेना चाहिए और राजस्थान तो उनके सवालों का जवाब भी देना चाहिए.

First published: 21 April 2019, 10:17 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी