Home » जम्मू-कश्मीर » Amarnath yatra begins today, first batch of Yatris from Jammu Base camp flagged off by Deputy cm nirmal singh in jammu-Kashmir.
 

आतंकी ख़तरे के साए में अमरनाथ यात्रा का आग़ाज़

कैच ब्यूरो | Updated on: 28 June 2017, 13:11 IST
(file photo)

जम्मू-कश्मीर के बेसकैंप से बाबा बर्फानी के दर्शन के लिए बुधवार को पहला जत्था रवाना हो गया है. राज्य के उप-मुख्यमंत्री निर्मल सिंह ने कड़ी सुरक्षा के बीच अमरनाथा यात्रा के लिए 4,000 यात्रियों के पहले जत्थे को हरी झंडी दिखाकर विधिवत यात्रा की शुरुआत की.  

खुफिया रिपोर्ट ने इस यात्रा पर आतंकवादी हमले की चेतावनी दी है. पहलगाम और बालटाल के मार्ग में आतंकी हमले की संभावना है. प्रशासन ने सैटेलाइट ट्रैकिंग सिस्टम शामिल कर सुरक्षा पैमाने को उच्चतम स्तर पर पहुंचा दिया है. 

आतंकी ख़तरे की चेतावनी

पुलिस महानिरीक्षक मुनीर खान ने सेना, सीआरपीएफ और राज्य के कई डीआईजी को लेटर लिखकर कहा है, "एसएसपी अनंतनाग से मिले खुफिया इनपुट के मुताबिक आतंकवादियों को 100 से 150 श्रद्धालुओं और करीब 100 पुलिस अधिकारियों की हत्या करने के लिए कहा गया है."

पुलिस, सेना, बीएसएफ और सीआरपीएफ को मिलाकर जम्मू-कश्मीर में 35,000 से 40,000 सुरक्षा बलों को तैनात किया गया है. सीआरपीएफ के विशेष महानिदेशक एसएन श्रीवास्तव ने कहा कि इस यात्रा को किसी भी घटना से बचाने के लिए सबसे बड़ा सुरक्षा तंत्र स्थापित किया गया है.

खुफिया चेतावनी के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा, "मैं सार्वजनिक रूप से इस पर बात करना नहीं चाहूंगा, लेकिन आप कश्मीर की स्थिति को जानते हैं. हमने खुफिया इनपुट के आधार पर मापदंड बनाए हैं और सुरक्षा का सही इंतजाम किया है."

40 दिन चलने वाली अमरनाथ यात्रा जम्मू से शुरू होगी. जम्मू से गुफा तक का रास्ता 200 किलोमीटर की दूरी पर है. अमरनाथ की पवित्र गुफा दक्षिणी कश्मीर के पहाड़ी क्षेत्र में स्थित है. इस यात्रा के लिए 2.30 लाख यात्रियों ने पंजीकरण कराया है.

First published: 28 June 2017, 13:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी