Home » जम्मू-कश्मीर » BJP ends Alliance With Mehbooba Mufti's Pdp govt In Jammu And Kashmir, Decision comes after Amit Shah meets ministers in Delhi
 

बड़ी खबर: भाजपा ने जम्मू-कश्मीर में गिराई महबूबा सरकार, शाह से मुलाकात के बाद हुआ फैसला

कैच ब्यूरो | Updated on: 19 June 2018, 14:59 IST

भाजपा ने जम्मू-कश्मीर में महबूबा सरकार से अपना समर्थन वापस ले लिया है. समर्थन वापसी की चिट्ठी  भाजपा राज्यपाल को किसी भी समय सौंप सकती है. भाजपा-पीडीपी की सरकार साल 2014 में हुए विधानसभा चुनाव में किसी को पूर्ण बहुमत नहीं मिलने के बाद बनी थी. दिसंबर 2014 में हुए चुनावों में भाजपा सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी थी.

भाजपा के नेता राम माधव ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करकर इसकी जानकारी दी. राम माधव ने कहा कि अब महबूबा सरकार के साथ राज्य में सरकार चलाना संभव नहीं रह गया था. इसलिए हमने इस्तीफा वापस लेने का फैसला लिया है. 

राम माधव ने आगे कहा कि ये फैसला आंतकवाद, हिंसा और अतिवादी लोगों के घाटी में बढ़ते दखल की वजह से लिया गया है. जम्मू-कश्मीर में नागरिकों के मौलिक अधिकार खतरे में हैं. राम माधव ने राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाने की मांग की 

राम माधव ने कहा कि हमने एक एजेंडे के तहत राज्य में सरकार बनाई थी.  उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने महबूबा सरकार की हर तरह से मदद की. उन्होंने कहा कि हाल ही में वरिष्ठ पत्रकार(शुजात बुखारी) की हत्या कर दी गई. राम माधव ने कहा कि जम्मू और लद्दाख में विकास का काम भी नहीं हुआ.

गौरतलब है कि समर्थन वापसी से पहले भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने महबूबा मुफ्ती सरकार में शामिल अपने कोटे के सभी मंत्रियों और राज्य के सभी बड़े नेताओं से दिल्ली में मुलाकाता की. इसके अलावा राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ने भी शाह से मुलाकात की है. इसके बाद राम माधव ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में इसका औपचारिक ऐलान किया.

First published: 19 June 2018, 14:34 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी