Home » जम्मू-कश्मीर » BSF exam alleges militant threatening Nabil Ahmad
 

कश्मीर: BSF असिस्टेंट कमांडेंट परीक्षा में टॉपर नबील अहमद वानी को धमकी

कैच ब्यूरो | Updated on: 17 May 2017, 10:21 IST
Nabil Ahmad

सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के सहायक कमांडेंट की भर्ती परीक्षा में कश्मीरी टॉपर नबील अहमद वानी ने सरकार को खत लिखकर आतंकियों से मिल रही धमकी की जानकारी दी है. 

उन्होंने अपनी बहन निदा राफिया के लिए छात्रावास की सुविधा मांगी है. जम्मू के नबील अहमद पिछले साल बीएसएफ सहायक कमांडेंट की अखिल भारतीय परीक्षा के टॉपर हैं.

उन्होंने कहा है कि उनकी बहन निदा चंडीगढ़ में सिविल इंजीनियरिंग की छात्रा है. वह हॉस्टल में रहती है, लेकिन अब कॉलेज के अधिकारी उसे कहीं और भेजना चाहते हैं. नबील ने महिला एवं बाल विकास मंत्री मेनका गांधी को रविवार को पत्र भेजा है. केंद्रीय मंत्री से उन्होंने बहन के लिए हॉस्टल मुहैया कराने की गुजारिश की है.

 

छुट्टी में हथियार रखने की मांगी इजाजत

ग्वालियर के करीब टेकनपुर में बीएसएफ प्रशिक्षण अकादमी से फोन पर नबील ने बताया, "बहन इस बात को लेकर चिंतित है कि कश्मीरी होने के कारण उसे रहने का ठिकाना नहीं मिलेगा. खास तौर से उसे मेरी पृष्ठभूमि को लेकर डर है. निजी मामले में मैं बीएसएफ को शामिल नहीं करना चाहता. इसीलिए मैंने मंत्री को लिखा है."

नबील ने कहा कि उन्होंने अपने वरिष्ठ अधिकारियों से बात की है. उन्होंने छुट्टी पर जाने के दौरान अपने कर्मियों से आतंक प्रभावित इलाके में हथियार ले जाने की इजाजत मांगी है. 

आर्मी अफसर उमर फ़ैयाज़ की हत्या

इसके साथ ही नबील ने मांग की है कि घर जाने के दौरान भी यही सुविधा मिले. उन्होंने बताया कि अगले दो महीनों में वह अपने चचेरे भाई की शादी में हिस्सा लेने के लिए घर जाएंगे. 

इससे पहले पिछले हफ्ते आर्मी अफसर लेफ्टिनेंट उमर फैयाज पैरी की कश्मीर में उस वक्त आतंकियों ने हत्या कर दी थी, जब वे एक शादी समारोह में हिस्सा लेने के लिए शोपियां गए थे. आतंकियों ने उनको अगवा कर लिया था. बाद में गोलियों से छलनी फैयाज का शव बरामद हुआ था.

तीन आतंकियों के पोस्टर जारी

उमर फ़ैयाज़ पैरी सेना में डॉक्टर थे. दक्षिण कश्मीर के शोपियां में उमर फैयाज की हत्या के बाद जम्मू-कश्मीर पुलिस ने तीन स्थानीय आतंकियों के पोस्टर जारी किए. इनमें से इशफाक अहमद ठाकोर और गयास-उल-इस्लाम का ताल्लुक दक्षिणी कश्मीर के पडरपुरा इलाके से है. जबकि अब्बास अहमद भट्ट नाम का आतंकी मंत्रीबाग इलाके का रहने वाला है. तीनों का संबंध आतंकी संगठन हिजबुल मुजाहिदीन से बताया गया है. 

पुलिस ने इन आतंकियों को पकड़वाने में मदद करने वालों को इनाम देने का भी एलान किया है. जांच एजेंसियों को शक है कि फैयाज को मारने की साजिश में में हिजबुल मुजाहिदीन और लश्कर-ए-तैयबा के 10 आतंकी शामिल थे. फैयाज की शहादत के बाद शोपियां में बड़े पैमाने पर सर्च ऑपरेशन चल रहा है. वहीं हिजबुल ने फैयाज की हत्या में हाथ होने से इनकार किया है.

First published: 17 May 2017, 10:13 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी