Home » जम्मू-कश्मीर » Tej Bahadur BSF Jawan of 29th Battalion Confession on Food Sufferings on the Indian Border
 

वायरल वीडियो: आरोपों पर कायम BSF जवान ने कहा- क्या जनता को सच दिखाना ग़लत?

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 January 2017, 9:52 IST
(यूट्यूब)

बीएसएफ के जवान तेज बहादुर के एक वीडियो ने हड़कंप मचा दिया है. सोशल मीडिया पर भी यह वीडियो वायरल हो रहा है. वीडियो में तेज बहादुर ने अपने सीनियर अफसरों पर जवानों को घटिया क्वालिटी का खाना देने का आरोप लगाया है. 

बीएसफ कैंप के खाने पीने में हो रहे कथित घोटाले को लेकर 29 बीएसएफ बटालियन के जवान तेज बहादुर ने 8 मिनट का वीडियो सोशल मीडिया पर पोस्ट किया. एक हिंदी न्यूज़ चैनल से बाततीच में तेज बहादुर ने कहा है कि उसने घटिया खाने की शिकायत कई बार की थी, लेकिन जब कोई कार्रवाई नहीं हुई तो उसे मजबूरी में वीडियो डालना पड़ा.

'मैंने जो दिखाया ग्राउंड रिपोर्ट है'

बीएसफ जवान तेजबहादुर ने एबीपी न्यूज़ से कहा, "मैंने इस बारे में अपने प्रजेंट कमांडर से तीन-चार बार शिकायत की थी लेकिन जब कोई सुनवाई नहीं हुई तो मजबूरन वीडियो डालना पड़ा." इस इंटरव्यू के दौरान बीएसफ जवान ने कहा कि अगर उसने वीडियो डाला तो इसमें आखिर गलत क्या है? 

तेज बहादुर ने समाचार चैनल को बताया, "क्या सच्चाई दिखाना गलत है? मैंने सिर्फ देश के नागरिकों को सच्चाई दिखाई है. 80 फीसदी शिकायतें मौखिक होती हैं, मैंने भी शिकायत की थी."

तेज बहादुर का कहना है, "जिस इलाके में मैं था वहां ना तो कोई मीडिया है ना कोई अन्य साधन. अफसर भी आते हैं तो शायद जवानों से मिलना पसंद नहीं करते. मैंने जो दिखाया है वो ग्राउंड रिपोर्ट है. मैंने वही खाना वीडियो में दिखाया जो मुझे दिया गया था." 

'गलत था तो गोल्ड मेडल क्यों दिया?'

तेजबहादुर ने साक्षात्कार के दौरान बताया, "मुझे अभी पोस्ट से बटालियन हेडक्वार्टर शिफ्ट कर दिया गया है. मेरी कमांडेंट से बात हुई उन्होंने मुझसे पूछा कि आप ने ऐसा किया है तो मैंने हां कहा. अब आश्वासन मिला है, देखते हैं आगे क्या होता है."

इस बीच तेज बहादुर पर एल्कोहलिक होने के आरोप लगे हैं. खुद पर लगे आरोपों और शिकायत की प्रकिया पर उठ रहे सवाल पर बीएसएफ जवान ने कहा, "अगर मैं गलत था तो मुझे अवॉर्ड क्यों दिए गए. मैं बीएसएफ का गोल्ड मेडलिस्ट रहा हूं. मुझे कई बार अवॉर्ड मिले हैं."

गृह मंत्रालय ने दिए जांच के आदेश

जम्मू में इंटरनेशनल बॉर्डर के पास तैनात बीएसएफ जवान तेज बहादुर वीडियो में कहते हैं, "देशवासियों मैं आपसे एक अनुरोध करना चाहता हूं. हम लोग सुबह 6 बजे से शाम 5 बजे तक, लगातार 11 घंटे इस बर्फ में खड़े होकर ड्यूटी करते हैं. कितना भी बर्फ हो, बारिश हो, तूफान हो, इन्‍हीं हालातों में हम ड्यूटी कर रहे हैं." 

बीएसएफ जवान ने वीडियो पोस्ट करते हुए अपील की है कि उसके दर्द को देश समझे. जवान का आरोप है कि बीएसएफ जवानों को घटिया खाना दिया जा रहा है. तेज बहादुर का आरोप है कि अफसर राशन को बाजार में बेच देते हैं.  

जवान ने वीडियो पोस्ट करते हुए पीएम मोदी से अपील की कि वो पूरे मामले की जांच कराएं. केंद्र सरकार ने इस मामले को गंभीरता से लेते हुए जांच का आदेश दिया. 

गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने ट्वीट किया, "मैंने बीएसएफ जवान का वीडियो देखा है. मैंने गृह सचिव को आदेश दिया है कि बीएसएफ से तत्काल रिपोर्ट तलब की जाए और जरूरी कार्रवाई हो." जवान के वीडियो पर केंद्रीय गृह राज्य मंत्री किरण रिजिजू ने भी कहा कि मामले को गंभीरता से लिया जा रहा है. हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि सीमा पर नियमित यात्रा के दौरान उन्होंने जवानों के बीच सब कुछ ठीक पाया था.

First published: 10 January 2017, 9:52 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी